भारत अब वैश्विक अर्थव्यवस्था को मजबूती देने में अगुवाई वाली स्थिति में 

मुंबई- टाटा समूह के प्रमुख एन चंद्रशेखरन ने बुधवार को कहा कि भारत के नजरिये में हाल के वर्षों में व्यापक बदलाव आया है। उन्होंने कहा कि अब भारत वैश्विक अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने को लेकर अगुवाई करने की स्थिति में आ गया है। यहां विश्व आर्थिक मंच की वार्षिक बैठक के दौरान ‘10,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था के मार्ग पर भारत’ विषय पर आयोजित सत्र को संबोधित करते हुए चंद्रशेखरन ने यह बात कही।  

उन्होंने कहा कि देश ने टेक्नोलॉजी का लाभ उठाने में महारथ हासिल कर ली है। टाटा संस के चेयरमैन ने कहा कि दुनिया में सबसे ज्यादा ग्रेजुएट भारत में होते हैं। यह देश को मजबूत स्थिति में ले जाने के विभिन्न फैक्टर्स में से सिर्फ एक है। 

चंद्रशेखरन ने आगे कहा, ‘भारत के नजरिये में बदलाव आ रहा है और कोरोना महामारी के दौर में यह सबसे अच्छा था। हमने देखा है कि हमारी अपनी वैक्सीन की मैन्युफैक्चरिंग भारत में ही हो रही है। डिजिटलीकरण के क्षेत्र में बदलाव उल्लेखनीय रहा है।’ 

चंद्रशेखरन ने कहा, ‘मेरे लिए तीन सबसे महत्वपूर्ण चीजें हैं- ग्रोथ, ग्रोथ और ग्रोथ। दुनिया को मजबूती की जरूरत है और भारत खासकर आपूर्ति व्यवस्था के ढांचे में अगुवाई करने की स्थिति में है।’ उन्होंने कहा कि फिलहाल देश में एक करोड़ पर्यटक आते हैं। लेकिन इसमें 10 करोड़ सैलानियों को बुलाने की क्षमता है। इसके लिए हमें इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने की जरूरत है और हवाई अड्डों, सड़क, रेल और पोत परिवहन के क्षेत्रों में काफी काम हो रहा है। 

चंद्रशेखरन ने कहा, ‘हम अभी वहां नहीं हैं। लेकिन हम वहां जरूर पहुंचेंगे और इसके लिए हमें सिर्फ अपनी योजना को अमलीजामा पहनाना है।’ उन्होंने जोर देकर कहा कि इन सभी लक्ष्यों के 25 साल के इस अमृत काल में प्राप्त होने की काफी संभावना है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *