राहुल गांधी ने कहा, जिसमें इंदिरा और सोनिया गांधी की छवि हो, वो मेरी दूल्हन 

मुंबई- राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के दौरान शादी पर सवाल हुआ। जवाब बेहद दिलचस्प था। राहुल यात्रा के दौरान अपनी दादी इंदिरा गांधी के बारे में बात कर रहे थे। उन्होंने कहा- इंदिरा गांधी उनके जीवन का प्यार हैं, उनकी दूसरी मां हैं। इसी जवाब पर फिर सवाल हुआ- क्या ऐसी ही महिला से शादी करना चाहते हैं, जिसमें आपकी दादी जैसे गुण हों। शादी के लिए क्या ऐसी ही लड़की चाहिए। इस पर राहुल ने कहा- यह दिलचस्प सवाल है। मैं ऐसी महिला चाहूंगा, जिसमें मेरी मां और दादी… दोनों के गुण हों। वह अच्छा रहेगा। 

राहुल ने शादी के सवाल पर जवाब मुंबई में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान दिया। वे यू ट्यूब चैनल मैशेबल इंडिया के बॉम्बे जर्नी स्पेशल एपिसोड में इंटरव्यू दे रहे थे। यह इंटरव्यू मंगलवार को यूट्यूब पर आया।  

सवाल- कोई पप्पू बोलता है तो क्या कभी यह बात दिल पर लगी? 

राहुल- नहीं, ये प्रोपेगैंडा अभियान है और यह उनके दिल की बात है। ये उन लोगों के भीतर डर है, जिनकी लाइफ में कुछ नहीं हो रहा है। 

सवाल- आपकी दादी को आयरन लेडी ऑफ इंडिया कहा जाता है? 

राहुल- उन्हें गूंगी गुड़िया भी कहा गया था। जो लोग मुझ पर 24 घंटे हमला करते हैं, उन्हीं लोगों ने इंदिराजी को गूंगी गुड़िया कहा था। फिर वह महिला आयरन लेडी बन गईं। वो हमेशा से ही आयरन लेडी थीं। 

सवाल- आपका साइकिलिंग में भी काफी ज्यादा इंट्रेस्ट है? 

राहुल- हां है, मैं कुछ न कुछ स्पोर्ट्स या तपस्या करता रहता हूं। मेरे पिता एक पायलट थे। मैंने उनसे सीखा। ये प्लेन उड़ाना आपके एटीट्यूड और वे ऑफ थिंकिंग है। मेरे पिता ने मुझसे एक बात कही थी। उन्होंने कहा था कि तुम प्लेन उड़ाना, प्लेन तुम्हें उड़ाए…ऐसा मत होने देना। मायने ये थे कि आप यानी पायलट हमेशा प्लेन के आगे रहता है। पायलट 30 हजार की ऊंचाई से चीजों को देखता है। जो आप उस ऊंचाई से देखते हैं, वह आपको सड़क पर दिखाई नहीं देंगी। पायलट हमेशा ऊंचाई से देखता है। आप देख पाते हैं कि समस्याएं कहां हैं। 

सवाल- 2010 में आपने ट्रेन से एक यात्रा शुरू की थी, क्या मोटिवेशन था? 

राहुल- 2010 से नहीं। मैं हमेशा ये यात्राएं करता हूं। कुछ राजनीतिक कारणों से प्रेस मुझे निशाना बनाता है। जो मैं शुरू करता हूं, उसमें अवरोध खड़ा करता है। जो भी मैं करता हूं, उसके कुछ चुनिंदा पहलू ही प्रेस दिखाता है। मैं यह जानना चाहता हूं कि एक अप्रवासी मजदूर होना क्या होता है। मैं थर्ड क्लास में बैठा, उसमें किसी गोरखपुर से आए पेंटर से बात की। जो भी मेरे सामने आता है, उसे समझना चाहता हूं। 

राहुल- वास्तव में मैं किसी कार का मालिक नहीं हूं। मेरी मां की CRV है, उसे ही चलाता हूं। मैं कार में इंट्रेस्टेड कभी नहीं रहा। हां, ड्राइविंग में मेरा इंट्रेस्ट है। मेरे पास मोटर बाइक है। मैं मोटर बाइक में इंट्रेस्टेड नहीं हूं, पर उसे चलाना मुझे पसंद है। आप मुझसे कार, इंजिन के बारे में बात करिए। मैं 90 फीसदी बातें सही बता सकता हूं। मैं कार ठीक कर सकता है। मैं चलना पसंद करता हूं। मैं हवा, पानी या जमीन…मुझे तेज चलना पसंद है। मुझे पुरानी लैम्ब्रेटा भी उतनी ही पसंद है, जितनी कि R-1। RD-350 पसंद है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *