नवंबर में रोजगार बाजार 27 फीसदी बढ़ा, दिल्ली-एनसीआर में 20 फीसदी बढ़त 

मुंबई- भारत का रोजगार बाजार नवंबर में त्योहारी सीजन के पहले के स्तर पर पहुंच गया है। इसमें मासिक आधार पर 27 फीसदी की वृद्धि दर्ज हुई है। हालांकि, सालाना आधार पर इसमें 43 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है। एक रिपोर्ट के अनुसार, इस वर्ष की पहली छमाही के उछाल के समय की तुलना में मिश्रित रुझान का पता चलता है, जिसमें भर्ती गतिविधियों में उच्च वृद्धि देखी गई थी। 

आंकड़ों के अनुसार, बीमा क्षेत्र में 42 फीसदी की मजबूत वृद्धि देखी गई। इसके बाद बैंकिंग और रियल एस्टेट क्षेत्रों में क्रमश: 34 फीसदी और 31 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई। ऑयल सेक्टर में भर्ती गतिविधियों में 24 फीसदी का उछाल आया है। रिपोर्ट के अनुसार यात्रा- हॉस्पपैटलिटी और ऑटो क्षेत्रों में 20 फीसदी और 14 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई। 

वर्ष की पहली छमाही के लिए मासिक औसत की तुलना में आईटी क्षेत्र में भर्ती में 8 फीसदी की गिरावट आई है। एड-टेक और खुदरा क्षेत्र में हालिया मंदी के साथ, शिक्षा क्षेत्र में भर्ती में 6 फीसदी की गिरावट आई है। खुदरा क्षेत्र में 7 फीसदी की गिरावट आई है। फार्मा, बीपीओ और टेलीकॉम सेक्टर में भर्ती गतिविधियां सुस्त रही हैं। 

साल की पहली छमाही के मासिक औसत की तुलना में दिल्ली-एनसीआर में नई नौकरियों में सबसे ज्यादा 20 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई। मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में विकास दर क्रमशः 17 फीसदी, 10 फीसदी और 8 फीसदी थी। दूसरी ओर, हैदराबाद, बंगलूरू और पुणे जैसे आईटी क्षेत्र की ओर अधिक झुकाव वाले महानगरों ने क्रमशः -1 फीसदी, -5 फीसदी और 2 फीसदी रही। 

गैर-महानगरों में, अहमदाबाद ने 33 फीसदी की वृद्धि दिखाई। वडोदरा में 23 फीसदी, जयपुर में 15 फीसदी और कोयम्बटूर में 8 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई। कोच्चि और चंडीगढ़ में स्थिरता रही। रिपोर्ट के अनुसार, अनुभवी पेशेवरों की मांग बढ़ी है। वरिष्ठ स्तर के पेशेवरों (12 साल से अधिक अनुभव वाले) की मांग में 21 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। 8-12 साल के अनुभव वाली नौकरियों की वृद्धि दर भी 11 फीसदी बढ़ी है। जूनियर स्तर (दो साल से कम अनुभव वाले) के लिए मांग स्थिर रही है। 

एक अन्य शोध में बताया गया है 25 वर्ष से कम उम्र के कर्मचारी एक नौकरी में औसतन 2 वर्ष और 3 महीने बिताते हैं, जबकि मिलेनियल्स (25 से 40 वर्ष) 2 वर्ष और 9 महीने तक रहते हैं। दूसरी ओर, 45 से 56 वर्ष वाले एक ही संगठन में काम करते हुए 5 साल और 2 महीने बिताते हैं, जबकि 55 से 75 साल की उम्र एक ही नौकरी में 8 साल और 3 महीने बिताते हैं। 

हालांकि हमेशा सच नहीं होता है, नौकरी करने वाले एक नौकरी से दूसरी नौकरी पर स्विच करके अपने मासिक वेतन में उल्लेखनीय वृद्धि की उम्मीद कर सकते हैं। यदि आपके पास आवश्यक प्रतिभा, कौशल और क्षमताएं हैं, तो भर्ती करने वाले को आपकी पहले की कमाई से अधिक भुगतान करने में कोई आपत्ति नहीं होगी। हालाँकि, यदि आप इसे एक पैटर्न बनाते हैं, और हर साल स्विच करने का निर्णय लेते हैं, तो आपके इरादे पर सवाल उठाया जा सकता है। 

यदि आपका दिल बहुत लंबे समय तक एक स्थान पर नहीं बसता है या आप अलग-अलग शहरों का पता लगाना पसंद करते हैं, तो नौकरी छोड़ना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा, किसी दूसरे शहर या देश में जाने से आपको अच्छे वेतन ढांचे के साथ ढेर सारे अवसर मिल सकते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *