जोमैटो, यस बैंक के शेयरों में 20 फीसदी तक की तेजी, क्यों भागे शेयर 

मुंबई- फूड डिलीवरी फर्म जोमैटो के शेयर मंगलवार को 20% तेजी के साथ 55.55 रुपुए पर बंद हुए। सोमवार को कंपनी ने तिमाही नतीजे जारी किए थे जिसमें बताया गया था कि उसका तिमाही घाटा कम हुआ है। इसके अलावा कंपनी के अलग-अलग बिजनेस के लिए 4 CEO नियुक्त करने की भी खबर है। इन खबरों के कारण शेयर में तेजी देखने को मिली। एक्सपर्ट आने वाले दिनों में शेयर के 80-100 रुपए तक पहुंचने का अनुमान लगा रहे हैं। 

उधर, एक बार फिर से यस बैंक का शेयर भाग रहा है। मंगलवार को यह भी 15 फीसदी तक बढ़ गया था। इसके पहले पिछले हफ्ते में भी यह इसी तरह से बढ़ा था। हाल में यह 15 रुपये से बढ़कर 17 रुपये के पार पहुंच गया है। फूड-टेक कंपनी का एक बड़ा शेयरधारक उबर बुधवार को 7.8% हिस्सेदारी (61 करोड़ शेयर) बेच सकता है। एक बड़ी ब्लॉक डील में शेयरों को 48-54 रुपए के भाव में बेचा जा सकता है।  

जोमैटो एक पैरेंट कंपनी बना सकता है। इसका नाम इटरनल होगा। कंपनी के फिलहाल जोमैटो, ब्लिंकिट, हाइपरप्योर, फीडिंग इंडिया ये चार ब्रांड हैं। जोमैटो के फाउंडर और CEO दीपिंदर गोयल इन सभी कंपनियों को एक पैरैंट कंपनी के तहत लाकर ऑपरेट करना चाहते हैं। वो एक ऐसी कंपनी बनाने के प्लान पर काम कर रहे है, जहां हर बिजनेस को चलाने के लिए कई CEO होंगे। सभी एक-दूसरे के साथ मिलकर काम करेंगे।शेयरधारको की ब्लिंकिट अधिग्रहण को मंजूरी देने के बाद ये रिस्ट्रक्चरिंग हो रही है। गोयल ने कहा, इटरनल वर्ड अपने आप में एक मिशन स्टेटमेंट है। 

जोमेटो ने जून-अगस्त तिमाही में 186 करोड़ रुपए का घाटा दर्ज किया है, जो पिछले साल की समान अवधि में रिपोर्ट किए गए 359 करोड़ रुपए का लगभग आधा है। ऑपरेशन से इसका रेवेन्यू 67.44% बढ़कर 1,413.9 करोड़ रुपए हो गया। एक साल पहले की समान अवधि में ये 844.4 करोड़ था।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.