टैक्स आय सीमा से कम है, तो भी आईटीआर भरना जरूरी होगा, जानिए क्यों 

मुंबई। अगर आप की सालाना आय टैक्स के दायरे में नहीं आती है, तो भी आपको कुछ मामलों में आयकर रिटर्न (आईटीआर) भरना जरूरी होगा। आम लोगों के साथ वरिष्ठ नागरिकों पर भी यह नया नियम लागू होता है। सीए अजय कुमार सिंह कहते हैं कि दरअसल, किसी व्यक्ति के लिए तभी आईटीआर भरना जरूरी होता है, जब उसकी सालाना आय 2.5 लाख रुपये से ज्यादा होती है। इससे नीचे की आय पर कोई टैक्स नहीं लगता है। लेकिन कुछ मामलों में ऐसा नहीं होता है। 

60 साल तक की उम्र वालों के लिए आम व्यक्ति की तरह ही 2.5 लाख रुपये की सीमा है। लेकिन उससे ऊपर और 80 साल से कम वालों के लिए यह सीमा 3 लाख रुपये है। 80 साल से ऊपर (सुपर सिटिजन) वालों के लिए यह सीमा 5 लाख रुपये है। 

अप्रैल, 2022 में केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने आयकर की धाराओं में सुधार किया था। इसमें कहा गया था कि सालाना ढाई लाख की कमाई न भी हो तो भी आपको आईटीआर भरना होगा। इसके अनुसार, अगर आपका कारोबार साल में 60 लाख रुपये है तो आईटीआर भरना जरूरी होगा। 

अगर किसी व्यक्ति को साल में उसके पेशे से 10 लाख रुपये का राजस्व आता है तो उसे आईटीआर भरना जरूरी है। इसी तरह से 25,000 रुपये से ज्यादा का अगर टीडीएस या टीसीएस होता है तो भी आपको आईटीआर भरना जरूरी है। वरिष्ठ नागरिकों के लिए यह सीमा 50,000 रुपये है। 

नियम के मुताबिक, अगर कोई व्यक्ति एक साल में एक बचत खाते या कई खाते में 50 लाख रुपये जमा करता है तो उसे भी आईटीआर भरना जरूरी है। चालू खाता में यह सीमा एक करोड़ रुपये की है। इन स्थितियों में भी आईटीआर भरना जरूरी है, अगर आपने विदेशी यात्रा पर एक साल में 2 लाख खर्च किए। या फिर एक साल में इलेक्ट्रिसिटी बिल एक लाख से ज्यादा रहा।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.