77 के हुए अजीम प्रेमजी, 9,713 करोड़ रुपये दे दिया दान में  

मुंबई- महान प्रतिभा के धनी विप्रो के मालिक अजीम प्रेमजी का 77 साल के हो गए हैं। 21 साल की उम्र में कंपनी की कमान संभाली। बिजनेस को नई ऊंचाई तक पहुंचाया। पिछले ही साल 2021 में 9,713 करोड़ रुपए का दान देकर भारत के सबसे बड़े दानवीर बने।  

वो अजीम प्रेमजी ही थे, जिन्होंने साबुन और वेजिटेबिल ऑयल के कारोबार करने वाली कंपनी वेस्टर्न इंडिया वेजिटेबल प्रोडक्ट्स लिमिटेड को अमेरिकन कंपनी सेंटिनल कंप्यूटर कॉर्पोरेशन के साथ मिलकर 1980 में आईटी कंपनी के तौर पर लॉन्च कराया। कंपनी पर्सनल कंप्यूटर बनाने के साथ सॉफ्टवेयर सेवाएं भी देने लगी। इसके बाद ही कंपनी का नाम बदलकर विप्रो (WIPRO) किया गया था। 

आईटी कंपनी विप्रो के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर अजीम प्रेमजी 30 जुलाई 2019 को रिटायर हो चुके हैं। एक बार विप्रो के एक कर्मचारी ने कार वहां पार्क कर दी जहां अजीम अपनी कार खड़ी करते थे। अधिकारियों को पता चला तो सर्कुलर जारी किया गया कि कोई भी भविष्य में उस जगह पर गाड़ी खड़ी न करे। प्रेमजी ने जब यह देखा तो सर्कुलर का जवाब भेजा। उन्होंने लिखा ‘कोई भी खाली जगह पर वाहन खड़ा कर सकता है। यदि मुझे वही जगह चाहिए तो मुझे दूसरों से पहले ऑफिस आना होगा।’ 

विप्रो की डब्ल्यूईपी सॉल्यूशन्स के एमडी राम नारायण अग्रवाल 1977 में विप्रो से जुड़े। जब वे सुबह सात बजे इंटरव्यू के लिए पहुंचे तो एक युवक आया और ऑफिस खोलने लगा। उन्हें लगा कि ये ऑफिस एडमिनिस्ट्रेशन का व्यक्ति है। युवक उन्हें रिसेप्शन पर बैठाकर अंदर चला गया। थोड़ी देर बाद इंटरव्यू के लिए बुलाते हुए उसी युवक ने अपना परिचय दिया, ‘मैं प्रेमजी हूं।’ इंटरव्यू 12 घंटे चला। 

1987 में विप्रो ने अपने तुमकूर (कर्नाटक) कारखाने के लिए बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन किया। कर्मचारी ने इसके लिए एक लाख रुपए रिश्वत मांगी। प्रेमजी ने रिश्वत देने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा, नियम से आपूर्ति नहीं मिलेगी तो हम अपनी बिजली खुद बना लेंगे। विप्रो ने जेनरेटर से काम चलाया, जिससे 1.5 करोड़ रु. का नुकसान हुआ। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.