50 करोड़ की इनकम, 109 करोड़ का फायदा, शेयर की कीमत 24 हजार रुपए

मुंबई– पिछले दो-तीन दिनों से बॉम्बे ऑक्सीजन इन्वेस्टमेंट के शेयरों में गिरावट आ रही है। इससे हर दिन इसके शेयर में लोअर सर्किट लग रहा है। जबकि मार्च के बाद से इस शेयर में लगातार तेजी आ रही थी और इसने निवेशकों को जबरदस्त मुनाफा दिया। कंपनी के काफी आंकड़े चौंकाने वाले हैं। लोअर सर्किट का मतलब एक दिन में शेयर का भाव उससे नीचे नहीं गिर सकता है। 

कंपनी की बात करें तो इसका फाइनेंशियल काफी चौंकाने वाला है। इसका मार्केट कैप 350 करोड़ रुपए है जबकि शेयर का भाव 24 हजार रुपए है। 50 करोड़ रुपए की इसकी इनकम रही है और 109 करोड़ रुपए का फायदा रहा है। इसका कुल 1.50 लाख ही शेयर है। इसमें से 1 लाख 9 हजार 942 शेयर प्रमोटर्स के पास हैं और बाकी 40 हजार 58 शेयर पब्लिक के पास हैं। 

कंपनी की शुरुआत 3 अक्टूबर, 1960 को बॉम्बे ऑक्सीजन कॉरपोरेशन लि. के रूप में हुई थी। अक्टूबर, 2018 में इसने अपना नाम बदलकर बॉम्बे इन्वेस्टमेंट रख लिया है। इसका मुख्य कारोबार औद्योगिक गैस के उत्पादन और सप्लाई का था जिसे एक अगस्त 2019 से इसने बंद कर दिया। अब यह एनबीएफसी में काम करती है। इसकी वेबसाइट के मुताबिक, हालांकि इसमें भी यह ग्राहकों से डिपॉजिट नहीं ले सकती है। 

वैसे हाल में भले इसके शेयर बढ़े हो, लेकिन शेयरों की कीमत इसकी पहले भी ऊंची ही रही है। अप्रैल 2018 में यह 6,262 रुपए पर कारोबार कर रहा था। अप्रैल 2019 में इसका शेयर 21,018 रुपए पर था, जो दिसंबर 2019 में 8,499 रुपए पर पहुंच गया था। मार्च 2020 में यह 12,120 रुपए पर चला गया था। इस तरह से देखें तो अप्रैल 2019 में इसका शेयर आज के भाव के करीब था। हालांकि कोविड-19 की वजह से कंपनी के शेयरों में तेज गिरावट देखी गई। कंपनी में प्रमोटर के पास 73.29% होल्डिंग है जबकि पब्लिक के पास 26.71% है। 

1 फरवरी 2021 के बाद से बॉम्बे ऑक्सीजन के शेयर में आई जबरदस्त उछाल से यह बात भी साबित हो गई है कि लोग सोशल मीडिया की सलाह पर बिना सोचे-समझे और बिना रिसर्च किए स्टॉक्स में निवेश करते हैं। 1 फरवरी को बॉम्बे ऑक्सीजन इंवेस्टमेंट्स के एक शेयर की कीमत 9,965 रुपए थी जो 19 अप्रैल को बढ़कर 24,574 रुपए हो गई। 

वित्त वर्ष 2021 के पहले 9 महीनों में बॉम्बे ऑक्सीजन ने 109 करोड़ रुपए का फायदा कमाया जबकि इसकी इनकम 50 करोड़ रुपए की रही थी। एक साल पहले इसी समय में इसकी आय केवल 6 करोड़ रुपए थी और 59 लाख रुपए का फायदा कमाया था। दिसंबर तिमाही की बात करें तो इसकी इनकम 27.06 करोड़ रुपए रही है लेकिन फायदा 31.69 करोड़ रहा है। ये तो कुछ नहीं है। 

2020 मार्च में जब वित्त वर्ष खत्म हुआ तो कंपनी की कुल इनकम केवल 65 लाख रुपए थी और घाटा 20 करोड़ रुपए था। ऐसे में अचानक एक ही साल में कंपनी का पूरा फाइनेंशियल बदल गया। दरअसल कंपनी को इस फायदे में आए उछाल के पीछे कहा जा रहा है कि इसकी वन टाइम की कोई इनकम रही होगी, जिसकी वजह से ऐसा फाइनेंशियल इसका दिख रहा है। हो सकता है कि कंपनी ने कोई असेट्स बेची हो या किसी और तरीके से उसे कोई एकमुश्त रकम मिली हो। 

प्रमोटर की बात करें तो 9 अगस्त 1968 से श्याम रुइया इसके डायरेक्टर हैं। इसमें चार इंडिपेंडेंट डायरेक्टर हैं। कंपनी को 31 मार्च 2020 में म्यूचुअल फंड में निवेश से 21.32 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था। जबकि शेयर में निवेश से इसे 27.60 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। कंपनी ने हालांकि यह भी कहा कि जुलाई 2020 तक उसे म्यूचुअल फंड और शेयरों में हुए नुकसान की भरपाई भी कुछ हद तक हो गई। 

वैसे हाल में देखें तो ऐसे कई शेयर रहे हैं जो अचानक बढ़ गए हैं। इसमें देखें तो बाबा रामदेव की रुचि सोया का शेयर 13 रुपए से बढ़कर 2,000 रुपए तक चला गया था। फिर यह गिर कर 700-800 रुपए पर आ गया है। जेट एयरवेज का शेयर 16.75 रुपए से बढ़ कर 165 रुपए तक चला गया। अब यह 70-80 रुपए के बीच कारोबार कर रहा है। आर्किड फार्मा का शेयर 18 रुपए से बढ़ कर 2,680 रुपए तक चला गया। पिछले 10 दिनों से इसमें लगातार गिरावट है और अब यह 1470 रुपए पर कारोबार कर रहा है। 

ये ऐसे शेयर हैं जो अचानक दो अंकों से चार अंकों या पांच अकों तक पहुंच गए। ऐसी कई सारी कंपनियां हैं, जिनका कोई बिजनेस मॉडल नहीं है, फिर भी उनके शेयर लगातार आसमान छूते रहते हैं और जब गिरावट का दौर शुरू होता है तो निवेशकों को बेचने का भी मौका नहीं मिल पाता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *