जियो को लगातार झटका दे रहा है एयरटेल, ज्यादा जोड़ रहा है ग्राहक

मुंबई– भारती एयरटेल लगातार पांचवे महीने सबसे ज्यादा वायरलेस यूजर्स जोड़ने वाली टेलीकॉम कंपनी बन गई है। दिसंबर में कंपनी ने 40.5 लाख वायरलेस सब्सक्राइबर जोड़े, जिसके साथ कंपनी का यूजरबेस 33.87 करोड़ हो गया है। इस बाद रिलायंस जियो है, जिसने 4,78,917 सब्सक्राइबर्स को जोड़ा और इसी के साथ कंपनी का यूजरबेस 40.877 करोड़ हो गया है। 

इतनी अधिक संख्या में नए यूजर को जोड़कर एयरटेल ने रिलायंस जियो के साथ अंतर को कम कर दिया है। रिलायंस जियो का वायरलेस मार्केट शेयर दिसंबर में 35.43% था और उसके बाद 29.36% मार्केट शेयर के साथ एयरटेल था। दिसंबर में वोडाफोन आइडिया (वीआई) ने 56.9 लाख यूजर्स खोते हुए सब्सक्राइबर्स को खोना जारी रखा है। वीआई का यूजरबेस घटकर 28.425 करोड़ रह गया है। बीएसएनएल ने भी दिसंबर में 2,53,330 ग्राहकों को खो दिया और कंपनी का यूजरबेस 11.861 करोड़ रह गया है। 

वायरलेस ब्रॉडबैंड यूजर्स (4G) के संदर्भ में, जियो का यूजरबेस 40.877 करोड़ है, जिसके बाद 17.619 करोड़ के साथ एयरटेल और 12.077 करोड़ के साथ वोडाफोन-आइडिया है। 4G यूजर्स को प्राप्त करने का कंपटीशन तेज हो रहा है, क्योंकि मोबाइल ऑपरेटर अधिक यूजर्स को जोड़ने और अपग्रेड करने का प्रयास करते हैं। वर्तमान में, लगभग 30 करोड़ 2G यूजर्स हैं, जो मुख्य रूप से एयरटेल, बीएसएनएल और वोडाफोन-आइडिया के नेटवर्क पर है। 

कम कीमत वाले 4G स्मार्टफोन के साथ जियो के आने की खबरें थीं लेकिन अब तक, इसके बारे में कोई और जानकारी नहीं मिली है। एयरटेल अपने कई 2G यूजर्स को आकर्षक टैरिफ प्लान देकर 4G में अपग्रेड कर रहा है। एयरटेल ने बताया कि उसने अक्टूबर-दिसंबर में 1.42 करोड़ 4G यूजर्स को जोड़ा। हम अपने 2G बेस को अपग्रेड कर रहे हैं। भारती एयरटेल के सीईओ गोपाल विट्टल ने कहा कि कंपटीशन से मूवमेंट होता है, थोड़ी बहुत पोर्टिंग होती है और कुछ ऐसे ग्राहक होते हैं जो नई श्रेणी में भी आते हैं। 

वोडाफोन आइडिया, जो लगातार 2G ग्राहकों को खो रहा है, ने दिसंबर में लगभग 1.90 लाख वायरलेस ब्रॉडबैंड यूजर्स को खो दिया। चूंकि अभी कि बहुत अधिक ग्राहक मूवमेंट है, पिछले कुछ महीनों से एमएनपी (मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी) रिक्वेस्ट भी लगातार बढ़ रही है। एमएनपी रिक्वेस्ट दिसंबर में 82 लाख थी। विश्लेषकों का मानना ​​है कि बढ़ी हुई रिक्वेस्ट से अनुमान लगाया जा सकता है कि ग्राहक बेहतर डील पाने के लिए तेजी से टेलीकॉम नेटवर्क बदल रहे हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *