खादी ग्रामोद्योग से मिला 10 लाख को रोजगार, 1.55 लाख करोड़ का कारोबार

मुंबई- खादी एंड विलेज इंडस्ट्रीज कमीशन (KVIC) की पहली बार उत्पादों की बिक्री वित्त वर्ष 2023-24 में 1.55 लाख करोड़ रुपये को पार कर गई है। वित्तवर्ष 2022-23 में बिक्री का आंकड़ा 1.34 लाख करोड़ रुपये का था। केवीआईसी के इस शानदार प्रदर्शन ने 2047 तक ‘विकसित भारत’ के संकल्प को साकार करने और भारत को विश्व की तीसरी अर्थव्यवस्था बनाने की दिशा में बड़ा योगदान दिया है।

खादी एंड विलेज इंडस्ट्रीज कमीशन (केवीआईसी) ने वित्त वर्ष 2023-24 में उत्पादन, बिक्री और नई नौकरियों के मौकों का नया रिकॉर्ड बनाया है। केवीआईसी अध्यक्ष मनोज कुमार ने नई दिल्ली के राजघाट स्थित कार्यालय में वित्त वर्ष 2023-24 के प्रोविजनल आंकड़े जारी किये। वित्त वर्ष 2013-14 की तुलना में बिक्री में 399.69 फीसदी, उत्पादन में 314.79 फीसदी और नये रोजगार के सृजन में 80.96 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

बता दें कि वित्त वर्ष 2022-23 में वर्ष 2013-14 की तुलना में बिक्री में 332.14 फीसदी, उत्पादन में 267.52 फीसदी और नये रोजगार सृजन के क्षेत्र में 69.75 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गयी थी। पिछले 10 वित्त वर्षों में केंद्र सरकार के स्वदेशी खादी और ग्रामोद्योगी उत्पादों की बिक्री वित्त वर्ष 2013-14 में जहां 31154 करोड़ रुपये थी, वहीं वित्त वर्ष 2023-24 में यह बढ़कर 1,55,673 करोड़ रुपये के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई जो अब तक की सर्वश्रेष्ठ उपलब्धि है। वित्त वर्ष 2023-24 में केवीआईसी की कोशिशों से ग्रांवों और ऐसे इलाकों में 10 लाख नये रोजगार पैदा हुए हैं जिसने ग्रामीण भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत किया है।

पिछले 10 सालों में खादी कपड़ों के उत्पादन में भी अभूतपूर्व बढ़ोतरीदेखने को मिली है। वित्त वर्ष 2013-14 में जहां खादी कपड़ों का उत्पादन 811.08 करोड़ रुपये था वहीं 295.28 फीसदी के उछाल के साथ यह वित्त वर्ष 2023-24 में 3206 करोड़ रुपये के आंकड़े पर पहुंच गया, जो कि अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। वित्त वर्ष 2022-23 में खादी कपड़ों का उत्पादन 2915.83 करोड़ रुपये था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *