आईसीआईसीआई बैंक के शेयर नई ऊंचाई पर, मार्केट कैप 100 अरब डॉलर

मुंबई- ICICI Bank के शेयर 26 जून को BSE पर इंट्राडे ट्रेड के दौरान 1.5 प्रतिशत बढ़ते हुए लगातार तीसरे दिन एक नए रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गए। देश के दूसरे सबसे बड़े बैंक के शेयरों में पिछले एक साल में 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है, जो एक्सिस बैंक के शेयरों से थोड़ा पीछे है। एक्सिस बैंक के शेयर इस अवधि के दौरान 32 प्रतिशत बढ़े हैं। BSE सेंसेक्स ने इसी अवधि में 24 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है।

मंगलवार को, ICICI Bank मार्केट कैप (m-cap) 100 बिलियन डॉलर के आंकड़े को पार कर गया था और UBS के मार्केट कैप को भी पीछे छोड़ दिया था। एनालिस्ट ने बताया कि शेयरों में हालिया तेजी मुख्य रूप से बैंक
के वित्तीय परिणामों (financial results) की वजह से हुई है, जो उनके अनुसार ‘सर्वोत्तम’ हैं और भविष्य में वृद्धि की संभावना है।

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के बैंकिंग सेक्टर के रिसर्च एनालिस्ट अन्विन एबी जॉर्ज (Anwin Aby George ने कहा, ‘वित्त वर्ष 2023-24 की मार्च तिमाही (Q4FY24) के दौरान, ICICI Bank ने 82.3 प्रतिशत का क्रेडिट-टू-डिपॉज़िट अनुपात (CDR) दर्ज किया. इसके मार्जिन में अन्य निजी बैंकों के मुकाबले कम गिरावट हुई है। एसेट क्वालिटी भी अच्छी रही है और मैनेजमेंट से संबंधित कोई समस्या नहीं रही है।

ICICI Bank का नेट लाभ (PAT) वित्त वर्ष 2023-24 (FY24) में सालाना आधार पर 28.2 प्रतिशत बढ़कर 40,888 करोड़ रुपये हो गया है। मार्च तिमाही में बैंक की लोन बुक 11.84 लाख करोड़ रुपये थी, जिसमें सालाना आधार पर 16.2 प्रतिशत और तिमाही आधार पर (QoQ) 3 प्रतिशत की वृद्धि हुई। जमा (डिपॉजिट) 20 प्रतिशत सालाना और 6 प्रतिशत तिमाही आधार पर बढ़कर 14.12 ट्रिलियन रुपये हो गया, जबकि चालू खाता-बचत खाता (CASA) अनुपात तिमाही आधार पर 400 बेसिस पॉइंट (bps) बढ़कर 42 प्रतिशत हो गया।

एनालिस्ट्स का मानना है कि बैंक की डिजिटल बैंकिंग और शाखा नेटवर्क विस्तार की रणनीतिक पहलों से भविष्य में बेहतर वृद्धि बनी रह सकती है। मोतिलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज की एक रिपोर्ट के अनुसार,संदीप
बख्शी के नेतृत्व में ICICI Bank ने आधारभूत परिवर्तन किया है, जिसमें ‘टीम परफॉर्मेंस’ पर जोर दिया गया है।

मार्च तिमाही के अंत में, ICICI Bank के रिटेल लोन 6.66 लाख करोड़ रुपये थी, जो कुल लोन बुक का लगभग 55 प्रतिशत था। ग्रामीण ऋण बुक (Rural loan book) 1.02 लाख करोड़ और कॉरपोरेट ऋण बुक (corporate loan book) 93,228करोड़ रुपये (7.7 प्रतिशत हिस्सेदारी) था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *