महंगाई ने तोड़ी कमर, आलू, टमाटर, प्याज, चावल के दाम 65 पर्सेंट तक बढ़े

मुंबई- महंगाई एक बार फिर आम लोगों को सताने लगी है। पिछले एक साल में जरूरी वस्तुओं के दाम 65 फीसदी तक बढ़ चुके हैं। इसके साथ ही सब्जियों की कीमतें इतनी ज्यादा बढ़ गई हैं कि अधिकतर रसोई घरों से अब यह गायब होने लगी हैं। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के अनुसार, प्याज, आलू और टमाटर की कीमतें सबसे अधिक बढ़ी हैं। इनके साथ ही चावल, दाल और अन्य भी महंगे हुए हैं।

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के अनुसार, पिछले साल 21 जून को चावल के दाम 40 रुपये किलो थे, जो अब 45 रुपये किलो पर पहुंच गया है। मूंग दाल 10 फीसदी बढ़कर 109 से 119 रुपये किलो हो गई है। मसूर की दाल 92 से 94 रुपये किलो जबकि चीनी का दाम 43 रुपये से बढ़कर 45 रुपये हो गया है। दूध का भाव 58 रुपये से 59 रुपये लीटर पहुंच गया है। दो प्रमुख कंपनियों मदर डेयरी और अमूल ने हाल में दो रुपये की बढ़ोतरी की है।

आंकड़ों के अनुसार, हालांकि, तेलों के दाम में इसी दौरान गिरावट आई है। मूंगफली तेल का दाम करीब-करीब स्थिर है। सरसों तेल का भाव 142 रुपये से घटकर 139 रुपये लीटर, सोया तेल 132 से घटकर 124 रुपये लीटर हो गया है। पाम तेल की कीमत 106 से गिरकर 100 रुपये पर आ गई है। चाय का दाम मामूली बढ़कर 274 से 280 रुपये हो गया है।

खुदरा बाजारों से पता चलता है कि सब्जियों की कीमतों भी आसमान पर हैं। फूलगोबी जहां 80 रुपये किलो है, वहीं परवल भी 60 रुपये किलो है। लौकी भी इस समय 60 रुपये किलो बिक रही है। इनके अलावा भी सारी सब्जियां करीब-करीब 40 रुपये प्रति किलो के ऊपर ही बिक रही हैं।

भीषण गर्मी के कारण दालों, सब्जियों और अनाज जैसे प्रमुख खाद्य पदार्थों की आपूर्ति में भारी कमी आई है। इस साल देश के लगभग आधे हिस्से में तापमान सामान्य से 4-9 डिग्री सेल्सियस अधिक होने के कारण सब्जियों की आपूर्ति पर ज्यादा बुरा असर पड़ा है। इस सीजन में 18 प्रतिशत कम बारिश हुई है। इससे फसलों की बुआई में देरी हुई है। आरबीआई के आंकड़ों के अनुसार, पिछले साल नवंबर से लेकर अब तक खाद्य महंगाई सालाना आधार पर 8 फीसदी बढ़ी है।

अगर उम्मीद के मुताबिक मानसून आता है तो अगस्त से सब्जियों की कीमतों में कमी आ सकती है। हालाँकि, कम आपूर्ति के कारण दूध, अनाज और दालों की कीमतें ऊंची रहने की संभावना है। चावल की कीमतें भी बढ़ सकती हैं, क्योंकि सरकार ने चावल का न्यूनतम समर्थन मूल्य 5.4 प्रतिशत बढ़ा दिया है। चीनी की कीमतें ऊंची रहने की उम्मीद है क्योंकि अगले सीजन के उत्पादन में गिरावट का अनुमान है।

सबसे ज्यादा मार जिन सामानों से लोगों पर पड़ी है उनमें अरहर दाल 128 रुपये से बढ़कर 161 रुपये के पार हो गई है। उड़द दाल का दाम 112 से 127 रुपये, मूंग दाल 109 से 119 रुपये, आलू 22 से 32 रुपये किलो और प्याज 23 से बढ़कर 38 रुपये किलो हो गई है। टमाटर का दाम 32 से बढ़कर 48 रुपये हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *