दाल-सब्जियों के बाद साबुन और शैंपू भी हुआ महंगा, 17 फीसदी तक बढ़े दाम

मुंबई- महंगाई से राहत मिलती नजर नहीं आ रही है। साग-सब्जियों से लेकर दालों की महंगाई वैसे ही आम लोगों को परेशान कर रही थी। बीते 2 से 3 महीने में एफएमसीदी कंपनियों ने अपने फूड और पर्सनल केयर प्रोडेक्ट्स की कीमतों में 2 से 17 फीसदी तक की बढ़ोतरी कर दी है।

एफएमसीजी कंपनियों ने साबुन और बॉडी वॉश जैसे प्रोडक्ट्स की कीमतों में 2 से 9 फीसदी तक बढ़ा दी है। हेयर ऑयल की कीमतों में 8 से 11 फीसदी तक की बढ़ोतरी की गई है। जबकि चुनिंदा फूड आईटम्स की कीमतें 3 से 17 फीसदी तक महंगी हुई है। 2022 और 2023 की शुरुआत में भी लागत और इनपुट कॉस्ट में बढ़ोतरी के चलते कंपनियों ने कीमतों में बढ़ोतरी की थी।

क्रूड ऑर पॉम आयल कीमतों में कमी के बावजूद दूध, चीनी, कॉफी, कोपरा और बार्ली जैसे दूसरे कमोडिटी के दामों में उछाल देखने को मिला है। बीकाजी वित्त वर्ष 2024-25 में 2 से 4 फीसदी तक अपने फ्रोडक्ट्स की कीमतें बढ़ा सकती है और अप्रैल से कंपनी ने इसकी तैयारी शुरू भी कर दी है।

टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स ने अपने प्रतिद्वंदियों के मुकाबले प्राइस एडजस्टमेंट करने पर कार्य करना शुरू कर दिया है। डाबर इंडिया और इमामी जैसी एफएमसीजी कंपनियों ने मौजूदा वर्ष में सिंगल डिजिट प्राइस हाइक करने पर विचार कर रही हैं।

गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट्स ने अपने चुनिंदा साबुन की कीमतों में 4 से 5 फीसदी तक की बढ़ोतरी की है। कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज एंड ट्रेड के मुताबिक हिंदुस्तान यूनिलीवर ने डव की कीमतों में 2 फीसदी तक की बढ़ोतरी की है। विप्रो ने संतूर के दाम 3 फीसदी तक बढ़ाए हैं। कोलगेट ने पामोलिव बॉडी वॉश की कीमतें बढ़ा दी है जबकि पीयर्स बॉडी पॉश के दामों में 4 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है।

हिंदुस्तान यूनिलीवर, प्रॉक्टर एंड गैंबल हाइजीन एंड हेल्थकेयर और त्योतिलैब्स ने अपने सेलेक्ट पैक्स के दाम 1 से 10 फीसदी तक बढ़ाये हैं। हिंदुस्तान यूनिलीवर ने अपने शैम्पू और स्कीन-केयर प्रोडक्ट्स के दामों में बढ़ोतरी की है। नेस्ले ने कॉफी की कीमतों में 8 से 13 फीसदी तक की बढ़ोतरी की है। मैगी ओट्स नूडल्स की कीमतों में 17 फीसदी और आशीर्वाद होल व्हीट प्राइसेज में भी बढ़ोतरी की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *