बाजार की तेजी में म्यूचुअल फंड से अप्रैल और मई में जुड़े 81 लाख निवेशक

मुंबई- म्यूचुअल फंड उद्योग में चालू वित्त वर्ष के पहले दो महीनों अप्रैल और मई में 81 लाख नए निवेशक जुड़े हैं। मुख्य रूप से लगातार वितरण प्रयासों और वितरण नेटवर्क के मजबूत होने के कारण ऐसा हुआ है। ज्यादातर निवेश 40 साल तक की उम्र के लोग कर रहे हैं।

एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) के आंकड़ों के अनुसार, मई अंत में म्यूचुअल फंड फोलियो की संख्या 18.6 करोड़ थी। मार्च के अंत में यह 17.78 करोड़ थी। मई में 45 लाख फोलियो की बढ़त हुई। अप्रैल में 36.11 लाख फोलियो जोड़े गए थे। कुल 81 लाख फोलियो में से 61.25 लाख फोलियो इक्विटी केंद्रित स्कीमों में खुले हैं। इससे इक्विटी स्कीमों के कुल फोलियो की संख्या 12.89 करोड़ की रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई है। म्यूचुअल फंड हाउस में कुल फोलियो में 69 फीसदी हिस्सा इन्हीं स्कीमों का है।

आंकड़ों के अनुसार, 2023 में हर महीने औसत 22.3 लाख फोलियो जोड़े गए थे। इस साल यह दोगुना से भी ज्यादा बढ़ गया है। अधिकांश नए निवेशक म्यूचुअल फंड में निवेश करने के लिए डिजिटल चैनलों का रास्ता अपना रहे हैं। पिछले कुछ वर्षों में फोलियो में उछाल जेन-वाई और जेन-जेड निवेशकों के कारण हुआ है। जेन वाई का मतलब 1981 से 1996 के बीच पैदा होने वालों से है। जेन जेड का मतलब 1997 से 2012 के बीच पैदा होने वालों से है।

दूसरी ओर, फिक्स्ड डिपॉजिट अब म्यूचुअल फंड की तुलना में बहुत कम रिटर्न दे रहे हैं। साथ ही, लोगों की आय में वृद्धि और वित्तीय बाजारों तक पहुंच ने भी नए निवेशकों की वृद्धि में योगदान दिया है। म्यूचुअल फंड के लिए दृष्टिकोण मजबूत बना हुआ है। शेयर बाजार में चल रही तेजी और ठोस जोखिम प्रबंधन प्रथाओं के साथ निरंतर निवेशक शिक्षा से लोगों में जागरुकता फैल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *