हमारे बाजार के मार्केट कैप पर अमेरिका की एपल सहित 3 कंपनियां ही भारी

मुंबई- अमेरिका की कंपनी माइक्रोसॉफ्ट और एपल के कंबाइन्ड मार्केट कैप ने भारत में लिस्टेड 3,851 कंपनियों के टोटल मार्केट कैप को पीछे छोड़ दिया है। इसके अलावा, अमेरिका की टॉप तीन वैल्यूबल कंपनी – माइक्रोसॉफ्ट, एपल और एनवीडिया का मार्केट कैप अब चीनी स्टॉक एक्सचेंज की 5,300+ कंपनियों से भी बड़ा है।

माइक्रोसॉफ्ट- एपल का मार्केट कैप करीब 512 लाख करोड़ रुपए है। BSE का मार्केट कैप करीब ₹423 लाख करोड़ है। वहीं माइक्रोसॉफ्ट, एपल और एनवीडिया का मार्केट कैप 768 लाख करोड़ रुपए है। चीन के शंघाई स्टॉक एक्सचेंज का मार्केट कैप 768 लाख करोड़ रुपए है।

माइक्रोसॉफ्ट ने ओपनएआई में निवेश किया है और अपने प्रोडक्ट और सर्विसेस में AI को लागू कर रहा है। इससे माइक्रोसॉफ्ट के शेयर बीते 6 महीने में 15% से ज्यादा चढ़ चुके हैं। इससे कंपनी के मार्केट कैप में उछाल आया है।

इस साल मार्च के महीने में एपल के शेयर में गिरावट देखने को मिली थी। हालांकि, अब इसमें थोड़ी रिकवरी आई है। बीते 6 महीने में एपल का शेयर केवल 1.92% चढ़ा है। वहीं एक महीने में इसमें 7.56% का उछाल आया है।

बीते हफ्ते सेमीकंडक्टर चिप बनाने वाली कंपनी एनवीडिया एपल को पीछे कर दुनिया की दूसरी सबसे वैल्युएबल कंपनी बन गई थी। एनवीडिया मार्केट कैप 3.01 ट्रिलियन डॉलर हो गया था। बीते एक साल में इसके शेयर में 212% की तेजी आई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *