प्याज की कीमतें आसमान पर, एक हफ्ते में 30 पर्सेंट महंगी, 40 रुपये के पार

मुंबई- इस साल अब तक महंगाई से राहत दिला रहे प्याज के दाम (Onion Price) अब उपभोक्ताओं के आंसू निकालने की तैयारी में हैं। बीते कुछ दिनों से मंडियों में प्याज की कीमतों में तेजी देखने को मिल रही है।

जानकारों के मुताबिक इसकी वजह मंडियों में प्याज की आवक कम होना है। बीते महीनों में कम दाम मिलने से परेशान किसान मंडियों में प्याज कम ला रहे हैं। शर्तों के साथ प्याज के निर्यात पर रोक हटने से भी कीमतों में अब सुधार को बल मिला है।

मुख्य उत्पादक राज्य महाराष्ट्र की अहम मंडी पिंपलगांव में प्याज के थोक भाव एक जून को 400 से 2,400 रुपये थे, जो आज बढ़कर 800 से 2,900 रुपये क्विंटल हो गए। इस दौरान मंडी में प्याज की मॉडल (इसी भाव पर ज्यादातर बिक्री होती है) कीमत 2,000 रुपये से बढ़कर 2,450 रुपये क्विंटल हो गई है।
दिल्ली की आजादपुर मंडी में इस दौरान प्याज के थोक भाव 750 से 2,000 रुपये से बढ़कर 1,000 से 2,500 रुपये क्विंटल हो चुके हैं।

मंडियों में प्याज के दाम बढ़ने से खुदरा बाजार में भी प्याज की कीमतों में इजाफा हुआ है। केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के विभाग के आंकड़ों के अनुसार एक जून को देश भर में प्याज की औसत खुदरा कीमत 31.84 रुपये थी, जो आज बढ़कर 32.93 रुपये किलो हो गई। इस दौरान दिल्ली में प्याज के औसत खुदरा भाव 30 रुपये से बढ़कर 35 रुपये और महाराष्ट्र में 28.42 रुपये से बढ़कर 31.26 रुपये किलो हो चुके हैं।

प्याज महंगा होने की सबसे बड़ी वजह इसकी आवक में कमी आना है। जिंसों के भाव और आवक के आंकड़े रखने वाली एजेंसी एगमार्कनेट के मुताबिक इस महीने के 7 दिनों के दौरान मंडियों में करीब 2.43 लाख टन प्याज की आवक हुई है, जो पिछले साल की समान अवधि से करीब 40 फीसदी कम है। साथ यह इस अवधि से पहले वाले 7 दिनों (25 से 31 मई) में हुई करीब 2.67 लाख टन आवक से भी करीब 9 फीसदी कम है।

महाराष्ट्र में बीते महीनों में भाव कम मिलने के कारण किसान मंडियों में प्याज कम ला रहे हैं। जिससे मंडियों में इसके भाव 500 रुपये क्विंटल तक चढ़ गए हैं। अगर आगे भी आवक कम रही तो भाव 3,000 रुपये पार जा सकते हैं।
दिल्ली की आजादपुर मंडी के प्याज कारोबारी पीएम शर्मा कहते हैं कि मंडियों में अच्छा माल कम आ रहा है। जिससे अच्छी गुणवत्ता के प्याज के भाव अधिक बढ़े हैं।

प्याज के भाव में आने वाले दिनों में फिलहाल गिरावट तो नहीं दिख रही है। प्याज के निर्यात पर रोक हटने से सकारात्मक माहौल बनना भी प्याज के दाम बढ़ने का एक कारण हो सकता है। हालांकि शर्तें लागू होने से अभी बड़े स्तर पर निर्यात नहीं हो पा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *