6 दिन में बीएसई के मार्केट कैप में आई 19 लाख करोड़ रुपये की तेज बढ़ोतरी

मुंबई- लोकसभा चुनाव के पहले तीन चरणों के लिए हुए मतदान में वोट प्रतिशत में गिरावट के चलते मई महीने के दूसरे हफ्ते में शेयर बाजार में बेहद तेज गिरावट देखने को मिली थी। लेकिन 13 मई 2024 को गृह मंत्री अमित शाह के बयान का बाजार को सहारा मिला और महज छह दिनों के कारोबारी सत्र में बाजार में ऐसी तेजी देखने को मिली कि बीएसई पर लिस्टेड स्टॉक के मार्केट कैपिटलाइजेशन में 19 लाख करोड़ रुपये बढ़ गया है।

शनिवार 18 मई 2024 को बीएसई पर लिस्टेड स्टॉक्स का मार्केट कैपिटलाइजेशन 412.35 लाख करोड़ रुपये के ऐतिहासिक ऊंचाई पर बंद हुआ है। जबकि 10 मई, 2024 को मार्केट कैप 393.34 लाख करोड़ रुपये था। यानि केवल पिछले हफ्ते के छह कारोबारी सत्र में 19.01 लाख करोड़ रुपये मार्केट कैप में उछाल देखने को मिला है.

मार्केट कैप में उछाल क्रेडिट मिडकैप और स्मॉल कैप स्टॉक्स में उछाल को जाता है। निफ्टी के मिडकैप इंडेक्स में 2350 अँकों का उछाल देखने को मिला है और निफ्टी का मिडकैप इंडेक्स 51,870 अँकों पर बंद हुआ है और 52,000 के ऐतिहासिक आंकड़े को छूने के कगार पर है।

निफ्टी के स्मॉल कैप स्टॉक्स के इंडेक्स निफ्टी स्मॉलकैप 100 में भी 900 अंकों का उछाल देखने को मिला है। मि़डकैप और स्मॉलकैप स्टॉक्स में हरियाली के चलते ही बीएसई पर लिस्टेड स्टॉक्स का मार्केट कैप पहली बार 412 लाख करोड़ रुपये को पार करते हुए 412.35 लाख करोड़ रुपये पर बंद हुआ।

1 जून 2024 को आखिरी चरण का मतदान होगा और उसी दिन एग्जिट पोल्स सामने आएगा। उसके बाद ही कुछ हदतक तस्वीर साफ होगी। नोमुरा ने भी अपने रिपोर्ट में कहा है कि 1 जून को एग्जिट पोल्स और 4 जून को फाइनल नतीजे घोषित होने तक अनिश्चितता बनी रहेगी। नोमुरा के मुताबिक, बेस केस में हमारा मानना है ओपनियन पोल सच साबित हो सकता है जिसमें बीजेपी सत्ता हासिल करने में कामयाब होती है और उसे अपने बूते सामान्य बहुमत आ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *