शीर्ष 30 शहरों से आगे वाले शहरों से म्यूचुअल फंड का एयूएम 43 पर्सेंट बढ़ा

मुंबई- अग्रणी 30 शहरों के बाद वाले छोटे शहरों (बी-30) से जुड़ी म्युचुअल फंडों की प्रबंधनाधीन परिसंपत्तियों (AUM) में पिछले साल 43 फीसदी का इजाफा हुआ और इस तरह से उसने अग्रणी 30 शहरों (टी-30) को बड़े अंतर से पीछे छोड़ दिया।

बी-30 के एसेट अंडरमैनेजमेंट यानी निवेशकों के निवेश का मूल्य फरवरी 2024 में पहली बार 10 लाख करोड़ रुपये के पार निकल गया और अब यह 11 लाख करोड़ रुपये के करीब है। टी-30 का एयूएम पिछले साल 37 फीसदी की बढ़त के साथ 46.67 लाख करोड़ रुपये रहा।

एसोसिएशन ऑफ म्युचुअल फंड्स (AMFI) इन इंडिया के मुताबिक, म्युचुअल फंड के अधिकारियों ने कहा कि बी-30 के एयूएम में उच्च बढ़त अनुमान के मुताबिक है क्योंकि यहां टी-30 के मुकाबले आधार कम और ज्यादा इक्विटी हिस्सेदारी है। बी-30 से एमएफ निवेश मोटे तौर पर खुदरा निवेशकों से हासिल हुआ है, वहीं टी-30 के एयूएम में संस्थागत हिस्सेदारी काफी ज्यादा है। खुदरा निवेश ज्यादातर इक्विटी फंडों में जाता है, वहीं संस्थान अपनी रकम डेट फंडों में लगाते हैं।

30 अप्रैल तक टी-30 में संस्थागत एयूएम 20.4 लाख करोड़ रुपये था जबकि बी-30 में 1.7 लाख करोड़ रुपये। टी-30 लके एयूएम में यह हिस्सेदारी 44 फीसदी बैठती है जबकि बी-30 के एयूएम में 16 फीसदी। इक्विटी बाजार के अहम सूचकांक अप्रैल 2024 में समाप्त वर्ष में 25 फीसदी चढ़े हैं।

वितरकों के मुताबिक, एयूएम में बढ़ोतरी मजबूत निवेश और मार्क टु मार्केट लाभ के दम पर हुई है। ऐक्टिव इक्विटी ने वित्त वर्ष 2024 में शुद्ध रूप से 1.8 लाख करोड़ रुपये हासिल किए क्योंकि इक्विटी बाजार की तेजी ने नए निवेशकों को जोड़ा और देश भर से निवेश आया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *