टाटा मोटर्स का मुनाफा 17,529 करोड़ रुपये, भारतीय कारोबार अब कर्जमुक्त

मुंबई- ऑटोमोबाईल कंपनी टाटा मोटर्स का 2024 की चौथी तिमाही (जनवरी-मार्च) में मुनाफा सालाना आधार पर 218.93% बढ़कर 17,528.59 करोड़ रुपए रहा है। एक साल पहले की समान तिमाही में कंपनी ने 5,496.04 करोड़ रुपए का कॉन्सोलिडेटेड नेट प्रॉफिट दर्ज किया था।

कंपनी ने वित्त वर्ष 2024 के लिए 6 रुपए के फाइनल डिविडेंड यानी लाभांश का भी ऐलान किया है। कंपनियां अपने शेयरधारकों को मुनाफे का कुछ हिस्सा देती हैं, उसे डिविडेंड कहते हैं। रिजल्ट के बाद कंपनी का शेयर 1.62% बढ़कर 1,047 रुपए तक पहुंच गया है।

टाटा मोटर्स का पूरे साल (2023-2024) का रेवेन्यू बढ़कर 4.37 लाख करोड़ पहुंच गया है। ये कंपनी का किसी भी साल में सबसे ज्यादा रेवेन्यू का रिकॉर्ड है। वित्त वर्ष 2022-2023 में रेवेन्यू 3.45 लाख करोड़ रुपए रहा था। कंपनी की आय में सालाना आधार पर 13.3% की बढ़ोतरी दर्ज की है। FY24 की चौथी तिमाही में रेवेन्यू ₹1.20 लाख करोड़ रहा। एक साल पहले की समान तिमाही यानी FY23 की चौथी तिमाही में रेवेन्यू 1.06 लाख करोड़ रहा था।

टाटा मोटर्स की जगुआर लैंड रोवर (JLR) यूनिट ने इस तिमाही (Q4 FY24) में भी अपना मजबूत प्रदर्शन को जारी रखा। इस तिमाही में रेवेन्यू 11% बढ़कर करीब 83,000 करोड़ रुपए रहा। पूरे वित्त वर्ष 2023-24 के लिए करीब 3 लाख करोड़ रुपए के ऑलटाइम हाई पर पहुंच गया, जो पिछले वर्ष की तुलना में 27% ज्यादा है।

टाटा मोटर्स के ग्रुप चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर पी.बी. बालाजी ने कहा, ‘वित्त वर्ष 2024 के नतीजों की रिपोर्ट करते हुए खुशी हो रही है। टाटा मोटर्स ग्रुप ने अपना अब तक का सबसे अधिक आय और मुनाफा दर्ज किया है। भारत का हमारा कारोबार अब कर्ज मुक्त है और हम FY25 तक कंसोलिडेटेड बेसिस पर कर्ज मुक्त होने की राह पर चल रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *