20 लाख मोबाइल नंबरों को सरकार कर सकती है ब्लॉक, आप भी हो सकते हैं

मुंबई- देश में बढ़ते सायबर क्राइम (Cyber Crime) पर नकेल कसने की बड़ी तैयारी है. दूरसंचार विभाग (DOT), गृह मंत्रालय ( MHA) और राज्यों की पुलिस ( State Police) साइबर क्राइम और फाइनेंशियल फ्रॉड (Financila Fraud) में इस्तेमाल किए जाने वाले टेलीकॉम रिसोर्सेज (Relecom Resources) का इस्तेमाल रोकने के लिए मिलजुल काम करने का फैसला लिया है। इस साझेदारी के जरिए सायबर फ्रॉड करने वालों के नेटवर्क को धवस्त किया जाएगा साथ ही दिनोंदिन बढ़ते जा रहे डिजिटल खतरे (Digital Threat) से आम नागरिकों की सुरक्षा की जाएगी।

दूरसंचार मंत्रालय ने प्रेस रिलीज जारी कर बताया कि गृह मंत्रालय और राज्यों की पुलिस ने जो एनालसिस किया है उसके मुताबिक ऐसे 28,200 मोबाइल हैंडसेट्स पाये गए हैं जिनका इस्तेमाल सायबर क्राइम को अंजाम देने के लिए किया गया है। डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकम्यूनिकेशन ने जो एनालसिस किया है उसमें विभाग ने पाया कि ऐसे 20 लाख मोबाइल नंबर हैं जिनका इस्तेमाल इन 28200 मोबाइल हैंडसेट्स में इस्तेमाल किया गया है।

मिनिस्ट्री ऑफ कम्यूनिकेशन ने बताया कि विभाग ने मोबाइल सेवा देने वाली टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर्स को पूरे देश में ऐसे 28,200 मोबाइल हैंडसेट्स को ब्लॉक करने और मोबाइल हैंडसेट्स के साथ लिंक्ड इन 20 लाख मोबाइल नंबर्स के कनेक्शन के फिर से वेरिफिकेशन करने को कहा है. और मोबाइल नंबरों के री-वेरिफिकेशन में फेल हो जाने पर फौरन इन कनेक्शन को बंद करने का आदेश जारी किया गया है। मंत्रालय ने बताया कि इस एकीकृत कदम का मसकद आम नागरिकों की सुरक्षा के साथ टेलीकॉम इंफ्रास्ट्रक्चर की अखंडता और डिजिटल वातावरण को सुरक्षित बनाना है।

फरवरी 2024 में बढ़ते ऑनलाइन फाइनेंशियल फ्रॉड्स को देखते हुए वित्तीय मामलों के सचिव ने भी बैठक की थी जिसमें बताया गया कि फाइनेंशियल फ्रॉड के मामलों से जुड़े 1.4 लाख मोबाइल हैंडसेट्स टेलीकॉम विभाग ने ब्लॉक किए हैं। सरकार ने बैंकों और वित्तीय संस्थानों से कमर्शियल प्रमोशनल कॉलों के 10 डिजिट के नंबर की जगह 6 डिजिट के सीरीज वाले नंबर को भी लॉन्च करने को कहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *