आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल बिजनेस साइकिल फंड में 3 साल में निवेश दोगुना हुआ

मुंबई- पल पल बदलते समीकरण या यूं कहें कि स्टॉक की गतिशील प्रकृति और इसके बिजनेस के पहलू के मद्देनजर निवेशक अक्सर यही सवाल करते हैं कि ‘मार्केट क्या लगता है?’। भले ही किसी के पास इसका जवाब हो, लेकिन इसे कैसे कुशलतापूर्वक कैसे हैंडल किया जाए, इसका शायद ही किसी के पास कोई तरीका पता हो। लेकिन अब इसका एक समाधान आपके पास है। बदलते आर्थिक और बाजार परिदृश्य में अधिकतम रिटर्न चाहने वाले लॉन्ग टर्म निवेशकों के लिए, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल बिजनेस साइकिल फंड एकमुश्त और एसआईपी निवेश दोनों के लिए एक आकर्षक विकल्प प्रदान करता है।

अनीश तवाकली, ललित कुमार और मनीष बंथिया जैसे एक्स्पर्ट्स की लीडरशिप में इस फंड को जनवरी 2021 में लॉन्च किये गए इस फंड के पास मार्केट साइकिल को नेविगेट करने और बेंचमार्क से बेहतर प्रदर्शन करने का एक मजबूत ट्रैक रिकॉर्ड है।

इस फंड ने अप्रतिम रिटर्न का अनुभव दिया है। अलग अलग समय-सीमाओं में अपने बेंचमार्क, निफ्टी 500 टीआरआई के मुकाबले आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल बिजनेस साइकिल फंड के प्रदर्शन का तुलनात्मक विश्लेषण दर्शाता है कि फंड ने अपना दमदार प्रदर्शन दिखाते हुए लगातार अपने बेंचमार्क से बेहतर प्रदर्शन किया है।

इसकी शुरुआत अर्थात 18 जनवरी 2021 को किया गया 10 लाख रुपये का निवेश 31 मार्च 2024 तक बढ़कर लगभग 20.8 लाख रुपये हो गया जो कि 25.7% का एक उल्लेखनीय सीएजीआर (मिश्रित वार्षिक वृद्धि दर) है। स्कीम के बेंचमार्क निफ्टी 100 टीआरआई में समान निवेश से 17.7 लाख की आय होती, जो 19.7% सीएजीआर का परिणाम है।

फंड का एसआईपी रिटर्न भी काफी दमदार रहा है। इसकी शुरुआत से 10,000 रुपये के मासिक एसआईपी में 3.9 लाख रुपये का निवेश 31 मार्च 2024 तक 6.1 लाख रुपये का होता जो कि 28.8% का प्रभावशाली रिटर्न है। बेंचमार्क में समान निवेश से उसी अवधि के दौरान 20.2% का रिटर्न मिलता।

पिछले एक साल के संदर्भ में देखें तो इस फंड ने अपने बेंचमार्क की तुलना में 40.3% रिटर्न के मुकाबले 53.7% का रिटर्न दिया है, जो 13% से भी अधिक है। तीन साल के रिटर्न का भी यही ट्रेंड रहा है।

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल बिजनेस साइकिल फंड का लक्ष्य विभिन्न सेक्टर, थीम और मार्केट कैप में अवसरों का लाभ उठाना है। निवेश का सिद्धांत टॉप डाउन अप्रोच है और यह प्रचलित बिजनेस साइकिल की बुनियाद पर इन अवसरों की पहचान करने के इर्द-गिर्द घूमता है। यह स्कीम बिलकुल लचीली और मुफ़्त ( flexible and free) है और इसमें टिकने के लिए कोई कैपिंग या न्यूनतम आवंटन जैसा कोई क्राइटेरिया नहीं है। यह मार्केट चक्र के आधार पर निवेश थीम पर फैसला लेता है और विभिन्न वित्तीय मानदंडों (financial parameters) के आधार पर पहचाने गए सेक्टर के भीतर चुनिंदा स्टॉक में आए अवसरों का लाभ उठाता है।

उदाहरण के लिए, मजबूत वैश्विक और घरेलू विकास (domestic growth) की अवधि के दौरान, फंड वैश्विक स्तर पर मेटल, माइनिंग और ऑइल जैसे सेक्टरों पर ध्यान केंद्रित कर सकता है, जबकि घरेलू स्तर पर कन्सूमर ड्यूरेबल, कैपिटल गुड्स, बैंकिंग, ऑटो और इन्फ्रास्ट्रक्चर जैसे सेक्टरों को चुन सकता है। इसी तरह, धीमी वैश्विक और घरेलू विकास की अवधि के दौरान, घरेलू स्तर पर दूरसंचार, एफएमसीजी और यूटिलिटीज जैसे डिफेन्सिव सेक्टर पर केंद्रित हो सकता है।

अपने बदल सकने वाले (dynamic) प्रकृति के अनुरूप, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल बिजनेस साइकिल फंड ने अपने पोर्टफोलियो को अच्छी तरह से पूंजीकृत बैंकों, फार्मा और आईटी जैसे डिफेन्सिव सेक्टर पर ध्यान केंद्रित करने के साथ-साथ इलेक्ट्रिक वीइकल की बढ़ती मांग के कारण ऑटो जैसे सेक्टर पर भी सकारात्मक रुख दिखाया है। पोर्टफोलियो का लगभग 55% डोमेस्टिक सेक्टर से जुड़े स्टॉक्स को आवंटित किया गया है, जो मजबूत आर्थिक गतिविधि का संकेत देता है।

इसके अलावा, पोर्टफोलियो में पर्याप्त कैश कम्पोनन्ट है, जो वर्तमान में लगभग 11% है। यह देखते हुए कि वैल्यूएशन सस्ता नहीं है, यह आवंटन फंड के सावधानी भरे अप्रोच को दर्शाता है। गौरतलब है कि विदेशी इक्विटी और ईटीएफ एक्सपोजर फंड के वजन का 7.5% है, जो अंतरराष्ट्रीय अवसरों पर इसके विशेष फोकस को दर्शाता है।

कुल मिलकर कहें तो 3 साल से अधिक की समयावधि वाले निवेशकों के लिए यह फंड आर्थिक उतार चढ़ाव से छुटकारा पाने और बिना किसी परेशानी से इससे निपटने के लिए एक आकर्षक अवसर प्रदान करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *