अप्रैल में कारोबारी गतिविधियां 14 साल के उच्च स्तर पर, पीएमआई 62 पार

मुंबई- मजबूत मांग के कारण देश की कारोबारी गतिविधियां अप्रैल में लगभग 14 वर्षों के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। यह संकेत मजबूत आर्थिक विकास को दर्शाती है। एचएसबीसी का खरीद प्रबंधक सूचकांक यानी पीएमआई अप्रैल में बढ़कर 62.2 हो गया। मार्च में यह 61.8 पर था।

एचएसबीसी के पीएमआई से पता चलता है कि विनिर्माण और सेवा दोनों क्षेत्रों में विस्तार का संकेत है। महंगाई में कमी के बावजूद बढ़ती मांग से रेपो दर में कटौती में देरी हो सकती है क्योंकि महंगाई में आगे बहुत गिरावट की संभावना नहीं है। एचएसबीसी के सर्वेक्षण में कहा गया है कि पिछली कुछ तिमाहियों में मजबूत विस्तार के बाद इस साल भारत सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था बने रहने के लिए अच्छी स्थिति में है।

अगस्त 2021 लगातार पीएमआई 50 से ऊपर रहा है। 50 से ऊपर का मतलब कारोबारी गतिविधियों में तेजी और इससे कम का मतलब कमजोरी है। एचएसबीसी के भारत में मुख्य अर्थशास्त्री प्रांजुल भंडारी ने कहा, नए ऑर्डरों में बढ़ोतरी के कारण विनिर्माण और सेवा दोनों क्षेत्रों में मजबूत प्रदर्शन दिखा है। जून, 2010 के बाद से सूचकांक का यह उच्चतम स्तर है।

विनिर्माण पीएमआई में मजबूती रही। माल के उत्पादन और नए ऑर्डर दोनों में तेज गति से वृद्धि जारी रही। हालांकि पिछले महीने की तुलना में थोड़ी धीमी रही। कुल मिलाकर अंतरराष्ट्रीय मांग ठोस थी। मजबूत बिक्री ने आने वाले 12 महीनों के लिए कारोबार परिदृश्य में सुधार किया।

बढ़ती मांग को पूरा करने के प्रयासों से नौकरियों में वृद्धि को समर्थन मिला, जो विनिर्माण क्षेत्र में सबसे अधिक था। यह डेढ़ साल में सबसे तेज गति से बढ़ी। इस बीच, माल उत्पादकों के लिए इनपुट लागत कम हो गई। हालांकि मांग की मजबूती से खर्चों का भार ग्राहकों पर डाल दिया गया। सर्वे में कहा गया है कि महंगाई इतनी तेजी से नहीं गिर सकती कि भारतीय रिज़र्व बैंक किसी भी समय दर में कटौती पर विचार करना शुरू कर दे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *