अंबानी ने 22 करोड़ रुपये में खरीदी कंपनी, पहले साल में बिक्री 3000 करोड़

मुंबई- भारत और एशिया के सबसे बड़े रईस मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स लिमिटेड (RCPL) ने पहले ही साल कमाल कर दिया। रिलायंस इंडस्ट्रीज की इस फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स (FMCG) कंपनी ने अपने परिचालन के पहले पूर्ण वर्ष में ही 3,000 करोड़ रुपये की सेल हासिल कर ली।

फाइनेंशियल ईयर 2024 में कंपनी की कुल बिक्री में बेवरेज ब्रांड कैंपा कोला की सेल 400 करोड़ रुपये रही। इमामी को 3,400 करोड़ रुपये की बिक्री तक पहुंचने में पांच दशक लगे। कंपनी ने पिछले फाइनेंशियल ईयर में यह मुकाम हासिल किया। इसी तरह टूथपेस्ट सेक्टर की दिग्गज कंपनी कोलगेट-पामोलिव (इंडिया) ने फाइनेंशियल ईयर 2024 में 5,226 करोड़ रुपये का रेवेन्यू हासिल किया। यह कंपनी आठ दशक से कारोबार कर रही है। इससे पता चलता है कि RCPL ने कितनी जल्दी अपना बिजनस फैलाया है।

लिस्टेड FMCG कंपनियों को अभी भी फाइनेंशियल ईयर 2024 के वित्तीय परिणाम घोषित करने हैं। RCPL ने औपचारिक रूप से 30 नवंबर, 2022 को ऑपरेशन शुरू किया था। कैंपा कोला और इंडिपेंडेंस जैसे ब्रांड्स को ऑपरेट करने वाली यह कंपनी स्टेपल और बेवरेजेज के दम पर सेल्स में ग्रोथ को आगे बढ़ाना चाहती है।

सप्लाई की समस्याओं के बीच कंपनी अपनी क्षमता बढ़ाने के लिए कैंपा कोला के लिए एक बॉटलिंग प्लांट लगाना चाहती है। इसके लिए वह अपनी पेरेंट कंपनी से इस वित्त वर्ष में ₹500-₹700 करोड़ भी जुटा सकती है। आरसीपीएल की पेरेंट कंपनी रिलायंस रिटेल वेंचर्स है। यह रिलांयस ग्रुप के खुदरा कारोबार की होल्डिंग कंपनी भी है।

उन्होंने कहा कि रिलायंस कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स के फाइनेंशियल ईयर 2024 के रेवेन्यू में 200,000 से अधिक किराना स्टोर से अर्जित ₹1,000 करोड़ शामिल हैं। कंपनी इन दुकानों को अपने प्रॉडक्ट्स बेचती है। कंपनी ने फाइनेंशियल ईयर 2025 में ₹5,000 करोड़ रेवेन्यू का लक्ष्य रखा है। इस साल पेरेंट कंपनी RCPL में बड़ी पूंजी डालेगी। हालांकि यह रकम अभी तय नहीं की गई है, लेकिन यह 500-700 करोड़ रुपये के बीच रह सकती है।

कंपनी खुद अपना बॉटलिंग प्लांट लगाना चाहती है। इसकी वजह यह है कि अन्य बॉटलरों के साथ साझेदारी करने की उसकी पिछली रणनीति कारगर नहीं रही है। रिलायंस ने 2022 में उस समय बंद हो चुके कैंपा ब्रांड को करीब ₹22 करोड़ में खरीदा था। कैंपा कोला अभी देश के सबसे बड़े कोला बाजार आंध्र प्रदेश में उपलब्ध है लेकिन आपूर्ति की समस्याओं के कारण पूरे देश में इसकी रेगुलर सप्लाई नहीं हो पा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *