गाड़ियों की रिकॉर्ड बिक्री, पिछले वित्त वर्ष में 2.5 करोड़ से ज्यादा वाहनों की बिक्री

मुंबई- भारत ने पैसेंजर वाहन बिक्री में वित्त वर्ष 2024 में नया रिकार्ड बनाया है। इस साल यात्री वाहनों की ऑल-टाइम हाई सेल दर्ज की गई है। फेडरेशन द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, इस साल कुल 3,948,143 इकाइयों की बिक्री हुई जो कि बीते साल की तुलना में 8.45 प्रतिशत अधिक है। इसी के साथ ये बिक्री FY24 में अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई।

बता दें, वित्त वर्ष 2023 (FY23) में 3,640,399 यात्री वाहनों (पीवी) की खुदरा बिक्री हुई थी। इस साल बेहतर वाहन उपलब्धता, बाजार में मौजूद आकर्षक मॉडल्स का मिश्रण और नए मॉडलों के लॉन्च के कारण पीवी खुदरा बिक्री में ये साल एक मील का पत्थर साबित हुआ। एसोसिएशन ने कहा कि सप्लाई डायनमिक्स और स्ट्रैटेजिक मार्केटिंग के साथ ही सड़क बुनियादी ढांचे में विस्तार भी इस तेज बिक्री के कारणों में शामिल है।

इस साल स्पोर्ट्स यूटिलिटी वाहनों (एसयूवी) की भी उच्च मांग देखी गई। फाडा ने कहा कि भारत में पहली बार एसयूवी की बाजार हिस्सेदारी अब 50 प्रतिशत है। कुल मिलाकर, वित्त वर्ष 24 में भारत में ऑटो खुदरा बिक्री 10.29 प्रतिशत बढ़ी। वित्त वर्ष 2013 में 22,241,361 इकाइयों की तुलना में पीवी, वाणिज्यिक वाहन, दोपहिया, तिपहिया और ट्रैक्टर सहित कुल 24,530,334 इकाइयां बेची गईं।

बिक्री में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी तिपहिया वाहनों की हुई, जिसमें 48.83 फीसदी का उछाल देखा गया। इसके बाद दोपहिया वाहन (9.3 प्रतिशत) और पीवी का स्थान रहा। दोपहिया वाहनों के लिए, बढ़ी हुई मॉडल उपलब्धता, नए उत्पाद की शुरूआत और सकारात्मक बाजार धारणा के कारण बिक्री में वृद्धि हुई। विशेष योजनाओं और कोविड-19 महामारी के बाद ग्रामीण बाजार की रिकवरी से इसे और मदद मिली। मार्च में कुल ऑटो बिक्री पिछले साल की 2,062,409 इकाइयों की तुलना में मामूली 3.14 प्रतिशत बढ़कर 2,127,177 इकाई हो गई। तिपहिया और दोपहिया वाहनों में क्रमशः 17.13 प्रतिशत और 5.44 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई।

हालांकि, अन्य सभी श्रेणियों, पीवी, वाणिज्यिक वाहन (सीवी), और ट्रैक्टर की बिक्री में महीने के दौरान गिरावट देखी गई। सीवी की बिक्री में 5.87 प्रतिशत की गिरावट आई और ट्रैक्टर की बिक्री में 3.33 प्रतिशत की गिरावट आई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *