पांच दिन तक इस वजह से भूखे रहे थे इन्फोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति

मुंबई- इन्‍फोसिस के संस्‍थापक नारायण मूर्ति ने 50 साल पहले की एक घटना बताई है। ये उनके संघर्ष के दिन थे। वह यूरोप में थे। इस दौरान उन्‍हें कई दिनों तक भूखा रहना पड़ा था। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में नारायण मूर्ति ने आपबीती सुनाई। उन्‍होंने कहा, ‘आपमें से ज्‍यादातर को भूख का अनुभव नहीं हुआ है। मुझे है।’ इस कार्यक्रम में कई राजनयिक, अधिकारी, शिक्षाविद, सिविल सोसाइटी ऑर्गनाइजेशन और भारतीय समुदाय के सदस्य मौजूद थे।

मूर्ति ने कार्यक्रम में बताया कि कैसे उन्होंने उस दौरान बिना कुछ खाए 120 घंटे बिताए थे। उन्होंने कहा, ’50 साल पहले मैं यूरोप में लगातार 120 घंटों तक भूखा रहा था।’ नारायण मूर्ति बोले, ‘यहां मौजूद ज्‍यादातर भारतीयों और मैंने सरकार से अच्छी गुणवत्ता और अत्यधिक सब्सिडी वाली शिक्षा पाई है। इसलिए सभ्य लोगों के रूप में, हमें अपने राष्ट्र के प्रति आभार व्यक्त करना चाहिए। असहाय और गरीब बच्चों की भावी पीढ़ी को अच्छी शिक्षा प्राप्त करने में मदद करनी चाहिए।

यह आयोजन – ‘खाद्य सुरक्षा में उपलब्धियां: सतत विकास लक्ष्यों की ओर भारत के कदम’ भूख से निपटने के भारत के प्रयासों के लिए महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित हुआ। इसने एक भारतीय एनजीओ अक्षय पात्र फाउंडेशन की ओर से परोसे गए चार अरबवें मील का जश्न मनाया।

नारायण मूर्ति अक्‍सर सुर्खियों में रहते हैं। हाल ही में उन्‍होंने इन्फोसिस के 243 करोड़ रुपये के शेयर अपने 4 महीने के पोते एकाग्र मूर्ति को गिफ्ट किए थे। ये करीब 1.51 करोड़ के बराबर थे। यह ट्रांजैक्‍शन ऑफ-मार्केट हुआ था। इस तरह एकाग्र इन्‍फोसिस में सबसे कम उम्र का शेयरहोल्‍डर बन गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *