पिछले वित्त वर्ष भर में जीएसटी से सरकार ने कमाए 20 लाख करोड़ रुपये

मुंबई- मार्च में छप्‍परफाड़ जीएसटी कलेक्‍शन हुआ है। यह सालाना आधार पर 11.5 फीसदी बढ़ा है। इस बढ़त के साथ मार्च में गुड्स एंड सर्विस टैक्‍स (जीएसटी) कलेक्‍शन 1.78 लाख करोड़ रुपये हो गया है। यह कलेक्‍शन का अब तक का दूसरा सबसे बड़ा मास‍िक आंकड़ा है। यह उछाल घरेलू लेनदेन से जीएसटी संग्रह में 17.6 फीसदी की जोरदार बढ़ोतरी के कारण आया। मार्च 2024 के लिए रिफंड का जीएसटी रेवेन्‍यू शुद्ध ₹1.65 लाख करोड़ है। यह पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में 18.4% की बढ़ोतरी है।

वित्त वर्ष 2023-24 ग्रॉस जीएसटी कलेक्‍शन के मामले में मील का पत्थर है। इसमें 20.14 लाख करोड़ रुपये कलेक्‍शन हुआ। पिछले साल के मुकाबले में यह 11.7% की बढ़ोतरी है। इस वित्तीय वर्ष के लिए औसत मासिक संग्रह ₹1.68 लाख करोड़ रहा है। यह पिछले वर्ष के औसत ₹1.5 लाख करोड़ से ज्‍यादा है। चालू वित्त वर्ष के लिए मार्च 2024 तक रिफंड का जीएसटी रेवेन्‍यू शुद्ध ₹18.01 लाख करोड़ है। यह पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में 13.4 फीसदी की बढ़ोतरी है।

आंकड़ों के मुताबिक, केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर (सीजीएसटी) से 34,532 करोड़ रुपये जबकि राज्य वस्तु एवं सेवा कर (एसजीएसटी) से 43,746 करोड़ रुपये मिले हैं। एकीकृत वस्तु एवं सेवा कर (आईजीएसटी) से 87,947 करोड़ और सेस से 12,259 करोड़ मिले हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *