5 स्टार होटल में इंटर्न को मिलता है महीने का केवल 2000 रुपया, लूटमपाट

मुंबई- जीएसएफ एक्सेलेरेटर के संस्थापक और सीईओ राजेश साहनी ने गुरुग्राम के 5-सितारा होटल में इंटर्न को मिल रहे स्‍टाइपेंड पर भारी असंतोष जताया है। एक इंटर्न से बातचीत करने पर उन्‍हें पता चला कि उसे महीने में सिर्फ 2,000 रुपये मिलते हैं। यह सुनकर वह गुस्‍से से आग-बबूला हो गए। साहनी ने इसे बच्‍चों का खून चूसने जैसा बताया। उन्‍होंने सवाल किया कि भला कैसे कोई इतने कम पैसे में गुरुग्राम जैसे शहर में रह सकता है।

राजेश साहनी ने 22 मार्च को इस इंटर्न से हुई अपनी मुलाकात को शेयर किया है। उन्‍होंने गुरुग्राम के ली मेरिडियन में एक युवा लॉबी मैनेजर के साथ हुई बातचीत को याद किया। उन्हें पता चला कि मैनेजर देहरादून के लोकल स्थानीय कैटरिंग कॉलेज से ग्रेजुएट है। पिछले तीन महीनों से वह होटल में इंटर्नशिप कर रहा था। स्‍टाइपेंड के तौर पर उसे हर महीने 2000 रुपये की मामूली रकम दी जा रही थी।

साहनी के इस पोस्‍ट ने लोगों का ध्‍यान खींचा है। इस पर खूब प्रतिक्रियाएं आईं। साहनी के पोस्ट पर रिएक्‍शन देते हुए कई यूजर ने भारत में तमाम उद्योगों में मौजूदा इंटर्नशिप स्थितियों के बारे में समान अनुभव और चिंताएं शेयर कीं। कुछ ने यहां तक कहा कि तमाम जगहों पर इंटर्नशिप के दौरान पैसे तक नहीं मिलते हैं। जबकि उनसे लंबे समय तक भरपूर काम लिया जाता है।

एक व्यक्ति ने कहा कि भारत में कई उद्योगों की यही हकीकत है। उन्होंने कहा, ‘रिटेल जैसे उद्योगों में कई लोग मुफ्त में इंटर्निंग कर रहे हैं। कई स्टार्टअप सिर्फ यात्रा खर्च का पेमेंट करते हैं।’ एक अन्‍य यूजर ने कहा, ‘इंटर्नशिप मामूली वेतन के साथ पूरा काम और फुल टाइम एम्‍प्‍लॉयमेंट के शून्य आश्वासन से ज्‍यादा कुछ नहीं है।’

पिछले बीस साल में राजेश ने कई सफल बिजनेस की नींव रखी है। इसके अलावा वह इनरशेफ में सह-संस्थापक भी हैं। जीएसएफ के जरिये वह शुरुआती फंडिंग के साथ टेक स्टार्टअप को सलाह प्रदान करते हैं। उन्होंने एंजेल इंवेस्‍टर के रूप में 50 स्टार्टअप वेंचर्स में सक्रिय रूप से निवेश किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *