अदाणी समूह करेगा 60,000 करोड़ का निवेश, हवाई अड्‌डे में ज्यादा निवेश

मुंबई- अदाणी ग्रुप (Adani Group) अगले 5 से 10 सालों के बीच 7 हवाई अड्डों के विस्तार के लिए 60,000 करोड़ रुपये के निवेश की योजना बना रहा है। ग्रुप की योजना इन हवाई अड्डों की क्षमता में विस्तार कर कंपनी की कमाई में इजाफा करना है।

अदाणी एयरपोर्ट्स होल्डिंग्स (Adani Airports Holdings- AAHL) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) अरुण बंसल ने कहा कि अगले पांच सालों में ‘एयरसाइड’ पर 30,000 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे, जबकि उसके अगले पांच से 10 सालों में ‘सिटीसाइड’ के लिए 30,000 करोड़ रुपये आवंटित किए जाएंगे। मौजूदा समय में Adani Airports Holdings के पास 7 एयरपोर्ट्स हैं- जिसमें मुंबई, अहमदाबाद, लखनऊ, मंगलुरु, गुवाहाटी, जयपुर और तिरुवनंतपुरम शामिल है।

बता दें कि एयरपोर्ट के दो साइड होते हैं- एयरसाइड औऱ सिटीसाइड। एयरसाइड में एयरक्रॉफ्ट्स का आना-जाना यानी अराइवल और डिपॉर्चर होता है, जिसमें रनवे, कंट्रोल टॉवर्स, एयरक्रॉफ्ट मेंटिनेंस और रिफ्यूलिंग जैसी सभी सुविधाएं शामिल होती हैं। वहीं सिटीसाइड एयरपोर्ट कमर्शियल बेनिफिट के लिए बनाए जाते हैं। इसके तहत पैसेंजर्स के फायदे के लिए हवाई अड्डे के चारों ओर कमर्शियल फैसिलिटीज बनाई गई हैं।

दूसरे शब्दों में कहें तो ‘एयरसाइड’ हवाई अड्डे का वह सुरक्षित क्षेत्र है जहां केवल बोर्डिंग पास वाले यात्री पहुंच पाते हैं, जबकि ‘सिटीसाइड’ या ‘लैंडसाइड’ हवाई अड्डे का सार्वजनिक क्षेत्र है जो किसी के लिए भी पहुंच योग्य है।

बंसल ने यह बात साफ की कि 60,000 करोड़ रुपये के पूंजीगत खर्च (capex) में नवी मुंबई हवाई अड्डे (Navi Mumbai airport) के पहले फेज के डेवलपमेंट के लिए आवंटित 18,000 करोड़ रुपये शामिल नहीं हैं, जिसका ऑपरेशन मार्च 2025 तक शुरू होने वाला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *