एसआईपी में निवेश पहली बार 19,000 करोड़, स्मॉल और मिडकैप में निकासी

मुंबई- म्यूचुअल फंड एसआईपी में निवेशकों का विश्वास लगातार बढ़ रहा है। पहली बार यह मासिक 19,000 करोड़ रुपये के पार हो गया है। फरवरी में निवेश 19,187 करोड़ रुपये रहा है। जनवरी में यह 18,838 करोड़ रुपये था।

आंकड़ों के मुताबिक, फरवरी लगातार 36वां महीना है, जब इक्विटी फंड में निवेश आया है। इस दौरान इक्विटी फंड में निवेश बढ़कर 26,866 करोड़ रुपये हो गया है। पिछले 23 महीनों का यह रिकॉर्ड है। जनवरी में यह 21,780 करोड़ रुपये था। एसआईपी का कुल एयूएम यानी निवेशकों के निवेश का मूल्य 2.49 फीसदी बढ़कर 10.52 लाख करोड़ रुपये हो गया है।

आंकड़ों के मुताबिक, फरवरी तक कुल एसआईपी खाते 8.20 करोड़ रहे। जनवरी में 7.91 करोड़ था। जनवरी में 51.84 लाख नए खाते खुले। फरवरी में घटकर 49.79 लाख रह गया।

म्यूचुअल फंड उद्योग का एयूएम फरवरी में रिकॉर्ड 54.52 लाख करोड़ रुपये रहा है। जनवरी में 52.89 लाख करोड़ था। म्यूचुअल फंड का कुल फोलियो 17.41 करोड़ रहा है। खुदरा फोलियो की संख्या 13.94 करोड़ पर पहुंच गई है। इनका एयूएम 30.70 लाख करोड़ रुपये रहा है। इसमें हाइब्रिड, सोल्यूशन केंद्रित स्कीम और इक्विटी फंड भी शामिल हैं।

फरवरी में फंड उद्योग में कुल 1.2 लाख करोड़ रुपये का निवेश आया है। डेट स्कीम में 63,809 करोड़, इक्विटी में 26,866 करोड़ और हाइब्रि़ड में 18,105 करोड़ का निवेश आया है। स्मॉल और मिडकैप फंडों से जमकर निकासी हुई है। स्मॉलकैप में निवेश 10 फीसदी और मिडकैप में 12 फीसदी घटा है। गोल्ड ईटीएफ में 997 करोड़ रुपये का निवेश आया है।

विश्लेषकों का कहना है कि लंबे समय में पैसा बनाने की बढ़ती जागरुकता, एसआईपी में निवेश में आसानी और बाजार में लगातार तेजी शामिल है। म्यूचुअल फंड हाउस अनुभवी और नए निवेशकों के लिए एक सुलभ और अनुशासित निवेश विकल्प के रूप में एसआईपी को सक्रिय रूप से बढ़ावा दे रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *