इस साल कर्मचारियों की सैलरी में 10 पर्सेंट तक का इजाफा, ये है अनुमान

मुंबई- एक रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय कंपनियां 2024 में अपने कर्मचारियों को औसतन 9.6% वेतन वृद्धि दे सकती हैं। यह पिछले साल के बराबर ही है, लेकिन 2022 में दी गई 10.4% की वृद्धि से कम है। रिपोर्ट में कुछ क्षेत्रों को मार्क किया गया है जहां वेतन वृद्धि अधिक हो सकती है।

ई-कॉमर्स में 10.9 पर्सेंट सैलरी बढ़ सकती है जबकि फाइनेंशियल सर्विसेज के लोगों की सैलरी 10.1 पर्सेंट तक बढ़ने का अनुमान है। प्रोफेशनल सर्विसेज में 10 पर्सेंट और रियल एस्टेट में भी 10 पर्सेंट तक सैलरी बढ़ सकती है।

रिपोर्ट से पता चलता है कि 2024 में वेतन वृद्धि 2022 की तुलना में कम होगी। क्योंकि ई-कॉमर्स और टेक्नॉलजी सेक्टर, जिन्होंने 2022 में बड़ी वृद्धि देखी थी, धीमा होने की उम्मीद है। क्योंकि हाल के सालों में तेजी से डिजिटल बदलावों के बाद बाजार में बहुत परिवर्तन आया है।

2024 में वेतन में उतनी वृद्धि नहीं होगी क्योंकि महामारी के कारण ऑनलाइन शॉपिंग पर असर पड़ा है और ऑनलाइन कंपटीशन अधिक है। साथ ही, सबसे कम कमाने वालों को छोड़कर, अधिकांश कर्मचारियों को 2024 में छोटे बोनस मिलेंगे।

नौकरी छोड़ने की दर महामारी से पहले के स्तर तक कम हो गई है। 2022 में यह 21.2% थी जो 2023 में घटकर 18.3% हो गई है। यह कमी मुख्य रूप से लोगों द्वारा स्वेच्छा से नौकरी छोड़ने में कमी के कारण हुई है। 2023 में कुल नौकरी छोड़ने वालों में से 15.2% लोगों ने स्वेच्छा से नौकरी छोड़ी। स्वेच्छा से नौकरी छोड़ने के मुख्य कारणों में बाजार रेट से मिल रही कम वेतन, सीखने और ग्रोथ के सीमित मौके और परफॉरमेंस एसेसमेंट रहे।

रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि प्रोफेशनल सर्विसेज और IT सेक्टर में नौकरी छोड़ने की दर सबसे अधिक है। यह दर कम होने के बावजूद भी पहले की तुलना में ज़्यादा ही है, जो बताता है कि कंपनियों के लिए टैलेंटेड कर्मचारियों को बनाए रखना अभी भी मुश्किल है। हालांकि, रिपोर्ट में यह भी संकेत दिया गया है कि नौकरी छोड़ने की दर कम हो रही है, जिसका कारण बाजार में टैलेंट की बेहतर उपलब्धता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *