जी बिजनेस पर बाजार में निवेश का ज्ञान दे रहे 15 एक्सपर्ट पर सेबी कार्रवाई

मुंबई- सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) ने टीवी चैनल ‘जी-बिजनेस’ के 15 एक्सपर्ट्स को 7.41 करोड़ के प्रॉफिट को लौटाने को कहा है। इन सभी एक्सपर्ट्स पर एडवांस इंफॉरमेशन के आधार पर गैरकानूनी लाभ कमाने का आरोप है। एक्सपर्ट्स ने 1 फरवरी 2022 से 31 दिसंबर 2022 के बीच चैनल पर अपने व्यू शेयर किए थे।

इनमें निर्मल कुमार सोनी, पार्थ सारथी धर, SAAR कमोडिटीज प्राइवेट लिमिटेड, मनन शेयरकॉम प्राइवेट लिमिटेड, कन्ह्या ट्रेडिंग कंपनी, नितिन छलानी, रूपेश कुमार माटोलिया, अजयकुमार रमाकांत शर्मा, SAAR सिक्योरिटीज इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, रामावतार लालचंद चोटिया, किरण जाधव, आशीष केलकर, मुदित गोयल, हिमांशु गुप्ता और सिमी भौमिक शामिल हैं।

सेबी ने अपने आदेश में कहा कि उनमें से कुछ को अगले आदेश तक बाजार में ट्रेडिंग करने से रोक दिया गया है। कुछ के बैंक अकाउंट से डेबिट को बैन कर दिया है और उनकी म्यूचुअल फंड होल्डिंग्स से रिडम्पशन को कम कर दिया है।

इसके अलावा उन्हें डेरिवेटिव मार्केट में अपनी ओपन पोजीशन को बंद करने के लिए तीन महीने का समय दिया है। सेबी ने इन एक्सपर्ट्स को 3 कैटेगरी- प्रॉफिट मेकर्स, इनेबलर्स और गेस्ट एक्सपर्ट्स में बांटा है।

बाजार के विशेषज्ञ टीवी पर आकर शेयरों या स्टॉक्स के बारे में टिप्स शेयर किए। हालांकि ये एडवाइस पहले से ही प्रॉफिट मेकर्स के साथ शेयर कर चुके होते थे। इससे इन लोगों ने एक्सपर्ट की ओर से दी गई एडवांस इंफॉर्मेशन के आधार पर ट्रेडिंग की और प्रॉफिट कमाया। प्रॉफिट मेकर्स ने बाजार से कमाए मुनाफे को इन एक्सपर्ट्स के साथ शेयर किया। जिसको लेकर पहले से ही डील हुई थी।

फरवरी और दिसंबर 2022 के बीच चली सेबी की जांच में बैंक और अन्य डिटेल्स के साथ SMS, व्हाट्सऐप और टेलीग्राम चैट का विश्लेषण किया। कुछ गेस्ट एक्सपर्ट ने शो से पहले टिप्स शेयर करने की बात स्वीकार की और सेबी को दिए गए बयानों में प्रॉफिट शेयरिंग मॉडल को भी स्वीकार किया।

सेबी के होल-टाइम मेंबर कमलेश वार्ष्णेय ने अपने आदेश में कहा कि इन एक्सपर्ट्स ने डायरेक्ट या इनडायरेक्ट रूप से पहले से ही जानकारी प्राप्त कर करीब 7.41 करोड़ रुपए का मुनाफा कमाया है।

उन्होंने कहा, यह गैरकानूनी है और SEBI के नियमों के खिलाफ है। क्योंकि उन्हें आगे होने वाली घटनाओं के बारे में पहले से पता था। इससे सामान्य निवेशकों को नुकसान हुआ है। सेबी ने कहा कि एक्सपर्ट्स का मानना था कि उनकी सलाह के आधार पर सामान्य निवेशक शेयरों की खरीदारी करेंगे। इससे स्टॉक्स के प्राइस और वॉल्यूम उनके मुताबिक बढ़ेंगे।

कमलेश वार्ष्णेय ने कहा कि टीवी पर इनके शो के प्रसारण से 15 मिनट पहले बड़ी मात्रा में शेयरों का कारोबार देखा गया। वहीं प्रसारण के दौरान शेयरों में उनके मन मुताबिक बदलाव देखे गए और उस दौरान ट्रेडिंग वॉल्यूम में भी बढ़ोतरी देखी गई थी।

मार्केट रेगुलेटर ने इन विशेषज्ञों के बैंक अकाउंट डिटेल्स साथ उनके SMS, व्हाट्सऐप और टेलीग्राम चैट का एनालिसिस किया। SEBI ने जी-मीडिया से भी अंतिम आदेश आने तक सभी रिकॉर्ड्स और डॉक्यूमेंट मेंटेन रखने को कहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *