सीतारमण ने मनमोहन की सरकार के समय ये 15 आरोप लगाए, देखिए लिस्ट

मुंबई- लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार कांग्रेस पर तीखे हमले कर रही है। संसद से लेकर चुनावी सभाओं में बीजेपी नेता कांग्रेस समेत पूरे विपक्ष को घेरते नजर आ रहे हैं। बजट सत्र की शुरुआत से ही प्रधानमंत्री मोदी समेत कई केंद्रीय मंत्रियों ने कांग्रेस सरकार में हुए घोटालों का जिक्र किया।

इस बीच केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में मनमोहन सरकार के 10 पर श्वेत पत्र जारी किया है। इस श्वेत पत्र में यूपीए सरकार के दौरान हुए आर्थिक कुप्रबंधन का जिक्र किया गया है। श्वेत पत्र में मनमोहन सरकार के 10 साल के कार्यकाल में हुए 15 घोटालों को भी शामिल किया गया है।

1. कोयला ब्लॉक आवंटन घोटाला

इस वित्तीय घोटाले में सरकार द्वारा निजी कंपनियों को कैप्टिव उपयोग के लिए कोयला ब्लॉकों के आवंटन में अनियमितताएं और भ्रष्टाचार शामिल था, जिससे सरकारी खजाने को 1.86 लाख करोड़ रुपये का अनुमानित नुकसान हुआ जैसा कि सीएजी द्वारा अनुमान लगाया गया था। यह 2012 में सामने आया। सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे 204 आवंटनों को रद्द कर दिया। 47 मामलों में न्यायालयों में अंतिम रिपोर्ट दायर कर दी गई हैं।

2. राष्ट्रमंडल खेल घोटाला

कांग्रेस सरकार में दिल्ली में राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन हुआ था। इन खलों में से संबंधित कई प्रोजेक्ट और योजना में व्यापक भ्रष्टाचार, कुप्रबंधन और वित्तीय अनियमितताओं से प्रभावित हुआ था। 8 मामलों में आरोप-पत्र दायर किए गए थे जिन पर दिल्ली की अदालतों में मुकदमा चल रहा है।


3. 2जी टेलीकॉम घोटाला

2 जी टेलीकॉम या स्पेक्ट्रम घोटाला में सरकार को 1.76 लाख करोड़ रुपये के संभावित राजस्व का नुकसान हुआ। जैसा कि सीएजी द्वारा अनुमान लगाया गया है (3जी स्पेक्ट्रम के लिए भुगतान की गई दरों पर)। भ्रष्टाचार के मामले अपीलीय अदालत में हैं।


4. शारदा चिटफंड

यह एक पोंजी स्कीम थी जिसमें व्यक्तिगत उपयोग के लिए धन का डायवर्जन किया गया था, और निवेशकों को उच्च लाभ के वादे के साथ लुभाया गया था। यह घोटाला साल 2013 में सामने आया ये ग्रुप बिखर गया।

5. आईएनएक्स मीडिया मामला

यह मामला मनी लॉन्ड्रिंग और एक मीडिया कंपनी में निवेश के लिए विदेशी निवेश मंजूरी में अनियमितताओं से जुड़ा था। यह मामला अदालत में विचाराधीन है।

6. एयरसेल-मैक्सिस

इस मामले में एक टेलीकॉम कंपनी में विदेशी निवेश को मंजूरी देने में अनियमितता और रिश्वत लेने के आरोप हैं। मामले की सुनवाई चल रही है।

7. एंट्रिक्स-देवास डील

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की कॉर्पोरेट ब्रांच एंट्रिक्स कॉरपोरेशन और देवास मल्टीमीडिया प्राइवेट लिमिटेड के बीच एक उपग्रह सौदे में अनियमितताएं और भ्रष्टाचार, दुर्लभ एस-बैंड स्पेक्ट्रम के आवंटन में अनियमितताएं और देवास मल्टीमीडिया को गलत तरीके से लाभ पहुंचाना इस मामले के प्रमुख तत्व हैं। सुप्रीम कोर्ट ने धोखाधड़ी के निष्कर्ष की पुष्टि की है।

8. नौकरी के लिए भूमि

इस मामले में रेलवे के विभिन्न जोनों में ग्रुप ‘डी’ में पदों की नियुक्ति के बदले भूमि या संपत्ति हस्तांतरण के रूप में आर्थिक लाभ प्राप्त करना शामिल है। इसकी जांच चल रही है।

9. पंचकूला और गुड़गांव में प्राइम लैंड का आवंटन/रिलीज

ये अनेक मामले हैं जो निजी बिल्डरों की मिलीभगत से प्रमुख भूमि को अधिग्रहण से मुक्त करने और औद्योगिक भूमि को नजदीकी सहयोगियों को आबंटित करने से संबंधित हैं जांच के बाद, विचारण न्यायालयों में आरोप-पत्र दायर किए गए हैं।

10. जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन

यह मामला ‘फर्जी’ बैंक खाते खोलकर लगभग 44 करोड़ रुपये की हेराफेरी से जुड़ा है। जांच के बाद आरोप पत्र दाखिल कर दिया गया है।

11. एम्ब्रेयर डील

यह मामला ब्राजील की एयरोस्पेस कंपनी एम्ब्रेयर से भ्रष्टाचार, रिश्वतखोरी और पाप से जुड़ा है। जांच के बाद, आरोप पत्र दायर किया गया।

12. पिलाटस बेसिक ट्रेनर एयरक्राफ्ट

यह मामला वर्ष 2009 में भारतीय वायुसेना के लिए 75 पिलाटस बेसिक ट्रेनर विमानों की खरीद में भ्रष्टाचार से जुड़ा है।

13. हॉक विमान खरीद

यह मामला मैसर्स रॉल्स रॉयस पीएलसी, यूके से हॉक विमान की अधिप्राप्ति में वर्ष 2003 से वर्ष 2012 की अवधि के दौरान रक्षा मंत्रालय के अज्ञात अधिकारियों को रिश्वत देने से संबंधित है। मामले की जांच की जा रही है।

14. आदर्श हाउसिंग सोसायटी घोटाला

यह मामला एक रक्षा भूमि परियोजना में अपार्टमेंट के आवंटन में अनियमितताओं से जुड़ा था। 15. अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर घोटाला

हेलीकॉप्टरों की खरीद में रिश्वत दी गई थी। ये मामला काफी चर्चा में रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *