बार बार कहने के बावजूद नहीं सुधरी पेटीएम, फिर लगाया प्रतिबंध-आरबीआई

मुंबई- पेटीएम के खिलाफ RBI के एक्शन के बाद RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा- पेटीएम को पर्याप्त समय दिया था, लेकिन उन्होंने सुधार नहीं किया। कोई संस्था नियमों से नहीं चले तो हमें एक्शन लेना ही होगा। हम एक जिम्मेदार नियामक हैं।

पिछले कुछ दिनों में हमें लोगों के बहुत सारे सवाल मिले हैं। हमने उन्हें नोट कर लिया है। उसके आधार पर, हम अगले हफ्ते एक FAQ (सवाल-जवाब) जारी करेंगे। हमारे सभी एक्शन सिस्टमैटिक स्टेबिलिटी और डिपॉजिटर्स के हितों की रक्षा के लिए हैं। इनसे समझौता नहीं किया जा सकता। पेटीएम का मामला एक स्पेसिफिक इंस्टीट्यूशन से जुड़ा है। पूरे सिस्टम में कोई चिंता की बात नहीं है।

वहीं डिप्टी गवर्नर स्वामीनाथन जे. ने कहा कि लगातार गैर-अनुपालन के बाद पेटीएम के खिलाफ कार्रवाई की गई थी। ऐसी कार्रवाई महीनों और कभी-कभी वर्षों की बातचीत के बाद होती है, जहां हम कमियों को पॉइंट करते हैं और सुधारात्मक कार्रवाई के लिए समय भी देते हैं। पेटीएम पेमेंट्स बैंक की दिक्कतें और बढ़ रही हैं। देश के 42 फीसदी दुकानदारों ने अब पेटीएम से दूरी बना ली है। यह दुकानदार अब दूसरे भुगतान कंपनियों का उपयोग करने लगे हैं।

देश में 5,000 दुकानदारों के बीच किए गए एक सर्वे के मुताबिक, पेटीएम पेमेंट्स बैंक पर आरबीआई के प्रतिबंधों के बाद 20 फीसदी लोगों ने कहा कि वे अब दूसरे पेमेंट एप का उपयोग करने की सोच रहे हैं। 68 फीसदी ने कहा, पेटीएम पर उनका भरोसा कम हो गया है।

किराना क्लब के सर्वे के अनुसार, खुदरा विक्रेताओं में से 50 फीसदी ने फोन पे का रुख किया है। 30 फीसदी ने गूगल पे और 10 फीसदी ने भारत पे को अपनाया है। पेटीएम का शेयर दो दिनों की तेजी के बाद बृहस्पतिवार को 10 फीसदी के लोअर सर्किट की गिरावट के साथ 447.10 रुपये पर बंद हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *