मोदी के भाषण के बाद सरकारी कंपनियों के मार्केट कैप 24 लाख करोड़ बढ़े

मुंबई-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसद में एलआईसी सहित सरकारी कंपनियों को खरीदने की सलाह देने के बाद सरकारी कंपनियों के शेयर आसमान छू रहे हैं। पिछले छह माह में 56 कंपनियों के बाजार पूंजीकरण में 23.7 लाख करोड़ रुपये की तेजी आई है। बीएसई पीएसयू इंडेक्स का कुल बाजार मूल्य इस दौरान 66 फीसदी बढ़कर 59.5 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया है।

आंकड़ों के मुताबिक, इन छह महीनों में किसी भी कंपनी के शेयर ने घाटा नहीं दिया है। सबसे खराब प्रदर्शन कर रहा एसबीआई का शेयर भी 12 प्रतिशत बढ़ गया है। एनबीसीसी सबसे अधिक 249 प्रतिशत बढ़ा है। जिन निवेशकों ने छह माह पहले मोदी के भाषण के आधार पर शेयरों की खरीदी की होगी, वे मालामाल हो गए हैं। 10 अगस्त को मोदी के भाषण के बाद से निवेशकों ने सरकारी कंपनियों के शेयरों की जमकर खरीदी की है।

मोदी के भाषण के बाद से सरकारी कंपनियों के 22 शेयर ऐसे रहे हैं जो 100 प्रतिशत से ज्यादा बढ़े हैं। भारी गिरावट में रहने वाला एलआईसी का शेयर भी दो साल में पहली बार 1,000 रुपये और आईपीओ के भाव के ऊपर पहुंच गया। 100 फीसदी से ज्यादा रिटर्न देनेवालों में बीएचईएल, हुडको, एनएमडीसी, आईटीआई, एसजेवीएन, पीएफएसी, कोचीन शिपयार्ड, एमएमटीसी, आरईसी, मैंगलोर रिफाइनरी, आरवीएनएल, एनएलसी इंडिया, इरकॉन, न्यू इंडिया एश्योरेंस और जनरल इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन हैं।

जिन अन्य शेयरों ने छह माह में निवेशकों की रकम दोगुना की है, उनमें इंडियन ओवरसीज बैंक, पंजाब एंड सिंध बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और यूको बैंक भी हैं। एक साल में 35 कंपनियां ऐसी रही हैं जिन्होंने दोगुना से ज्यादा मुनाफा दिया है।

शेयर बाजार में रुचि रखने वाले को यह गुरु मंत्र है कि जिन सरकारी कंपनियों को ये लोग (विपक्ष) गाली दें ना, आप उस पर दांव लगा दीजिए। सब अच्छा ही होने वाला है। यह शायद पहली बार था कि किसी प्रधानमंत्री ने निवेशकों को पीएसयू शेयरों पर भविष्य के दृष्टिकोण को सुनिश्चित किया था और वह भी संसद में। इसके अगले ही दिन पीएसयू बैंक शेयरों के साथ-साथ अन्य सरकारी शेयरों में खरीदारी की नई लहर शुरू हो गई।

मोदी ने अपने भाषण में एलआईसी और तेजस का जिक्र किया था। इन दोनों ने 55 फीसदी से ज्यादा का रिटर्न दिया है। मोदी ने कहा था, लोगों ने कहा, एलआईसी समाप्त हो गई है और जिन गरीब लोगों ने अपनी मेहनत की कमाई का निवेश किया है, वे डूब जाएंगे। लेकिन एलआईसी लगातार ताकत हासिल कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *