5वीं बार विनिवेश लक्ष्य से चूकी सरकार, अगले साल 50,000 करो़ड़ का लक्ष्य

मुंबई- सरकार विनिवेश लक्ष्य से पांचवीं बार चूक गई है। चालू वित्त वर्ष में उसने 51,000 करोड़ रुपये के विनिवेश का लक्ष्य रखा था। इसे पूरा न होने पर लक्ष्य घटाकर 30,000 करोड़ रुपये कर दिया है। अब तक 12504 करोड़ रुपये की रकम जुटाई गई है।

सरकार ने बजट में अगले साल के लिए 50,000 करोड़ रुपये के विनिवेश का लक्ष्य रखा है। सरकार को अब तक विनिवेश से सबसे अधिक रकम 1,00,056 करोड़ रुपये 2017-18 में मिले हैं, जबकि लक्ष्य एक लाख करोड़ रुपये का था। 2018-19 में 84,972 करोड़ रुपये मिले थे, जबकि लक्ष्य 80,000 करोड़ रुपये का था।

सरकार ने चालू वित्त वर्ष में 1.04 लाख करोड़ रुपये के लाभांश का लक्ष्य रखा है जबकि बजट में अनुमान 48,000 करोड़ रुपये का था। हालांकि, केंद्रीय सार्वजनिक उद्यमों, सरकारी बैंको और आरबीआई से कुल मिलाकर 1,54,407 करोड़ रुपये मिलने का अनुमान है। अगले वित्त वर्ष में इसके 1.50 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान है।

पीएम जनधन योजना के तहत 34 लाख करोड़ रुपये सीधे लाभार्थियों को ट्रांसफर किए गए हैं। इससे सरकार की 2.34 लाख करोड़ की बचत हुई है। हर साल पीएम किसान योजना के तहत 11.8 करोड़ लोगों को सीधे लाभ मिल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *