10 वर्षों में अर्थव्यवस्था में बड़ा बदलाव, लोगों की औसत आय 50 फीसदी बढ़ी

मुंबई- सबका साथ- सबका विकास के लक्ष्य के साथ सरकार ने 10 वर्षों में 25 करोड़ को बहुआयामी गरीबी से मुक्ति दिलाई है। इस दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था में गहरा बदलाव आया है। इससे लोगों की औसत आय 50 फीसदी बढ़ी है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, भारत को 2047 तक विकसित भारत बनाने पर तेजी से काम हो रहा है। लोगों की जरूरतें और आकांक्षाएं हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता हैं। वे आगे बढ़ते हैं तो देश आगे बढ़ता है। विकसित भारत के सपने को साकार करने के लिए राज्यों को 75,000 करोड़ रुपये का 50 वर्षीय ब्याज मुक्त कर्ज दिया जाएगा

पिछले 10 वर्षों में सरकार के आर्थिक प्रबंधन ने जन-केंद्रित विकास को बढ़ावा दिया है। सभी प्रकार के बुनियादी ढांचे का निर्माण रिकॉर्ड समय में किया जा रहा है। सभी हिस्से पर्यावरण-विकास में सक्रिय भागीदार बन रहे हैं।

सीतारमण ने कहा, आर्थिक स्थिरता बनी हुई है। अर्थव्यवस्था अच्छा प्रदर्शन कर रही है। सरकार सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी), गवर्नेंस, विकास और प्रदर्शन पर ध्यान केंद्रित कर रही है। सक्रिय प्रबंधन महंगाई को काबू में रखने में मदद मिली है।

अगले 5 वर्ष 2047 तक विकसित भारत के सपने को साकार करने के लिए अभूतपूर्व विकास और स्वर्णिम क्षण होंगे। वित्तीय क्षेत्र की मजबूती से बचत, कर्ज और निवेश को अधिक कुशल बनाने में मदद मिली है। हाल में घोषित भारत मध्य पूर्व यूरोप आर्थिक गलियारा हमारे लिए गेम चेंजर साबित होगा। अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण (आईएफएससीए) ने विदेशी पूंजी के प्रवाह के लिए मजबूत प्रवेश द्वार बनाया है। प्रगति के बेहतरीन ट्रैक रिकॉर्ड से उपजे आत्मविश्वास के साथ सबका विश्वास अर्जित करते हुए अगले 5 वर्ष अभूतपूर्व विकास वाले होंगे।

2014 में हमारी सरकार ने सत्ता संभाली। उस समय देश भारी चुनौतियों का सामना कर रहा था। लेकिन सबका साथ सबका विकास के साथ सरकार ने चुनौतियों पर काबू पाया। हमारे युवा देश की आकांक्षाएं ऊंची हैं। उसे अपने वर्तमान पर गर्व है और उज्ज्वल भविष्य का भरोसा है।

हमारी सरकार विकास को बढ़ावा देने और उसे बनाए रखने वाली आर्थिक नीतियां अपनाएगी। यह सुधार, प्रदर्शन और परिवर्तन के सिद्धांतों पर आधारित होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *