बायजू का रेवेन्यू 5,298 करोड़, घाटा 8,245 करोड़ रुपये, मुश्किलें और बढ़ीं 

मुंबई- एड-टेक कंपनी बायजूस को वित्त वर्ष 2022 में ₹8,245 करोड़ का घाटा हुआ है। वित्त वर्ष 2021 में घाटा 4,564 करोड़ रुपए था। यानी कंपनी का घाटा करीब-करीब दोगुना हो गया है। इस दौरान कंपनी का रेवेन्यू ₹5,298 करोड़ रहा।  

कंपनी का 2021 में रेवेन्यू 2,428 करोड़ रुपए था। यानी रेवेन्यू में 118% का उछाल आया है। बायजूस की पैरेंट कंपनी थिंक एंड लर्न ने कंपनी रजिस्ट्रार के पास अपनी ऑडिटेड फाइनेंशियल रिपोर्ट दाखिल की है। घाटे का लगभग आधा हिस्सा (लगभग 3,800 करोड़ रुपए) व्हाइटहैट जूनियर और ओस्मो जैसी कंपनियों के कारण है। इन दोनों को बायजू ने खरीदा है।  

बायजूस के CFO नितिन गोलानी ने कहा- ‘हम खुश हैं कि हमारी कुल आय 2.2 गुना बढ़ गई है, हम व्हाइटहैट जूनियर और ओस्मो जैसे हमारे खराब प्रदर्शन वाले व्यवसायों के बारे में भी जानते हैं। हमने अपनी वित्तीय स्थिति में सुधार के लिए कई उपाय किए हैं।’ 

एक रिपोर्ट के अनुसार बायूजस नई फंडिंग के लिए अपने वैल्यूएशन को 16,000 करोड़ रुपये करने को तैयार है। एक साल पहले यानी 2022 में इसकी वैल्यूएशन 22 बिलियन डॉलर थी। ऐसे में कंपनी का वैल्यूएशन 90% से ज्यादा गिर चुका है। 

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने बायजूस के खिलाफ दिवालिया कार्रवाई शुरू की। बायजूस पर ₹158 करोड़ के पेमेंट में चूक का आरोप है। ED ने 9,000 करोड़ से अधिक के FEMA उल्लंघन मामले में नोटिस भेजा। फॉरेन करेंसी फ्लो को लेकर 1999 में FEMA बना था। गुरुग्राम ऑफिस का रेंट पेमेंट न करने पर कर्मचारियों को प्रॉपर्टी मालिक ने बाहर कर दिया। उनके लैपटॉप जब्त कर लिए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *