चीन के शेयर बाजार में निवेशकों को 524 लाख करोड़ रुपये का हुआ घाटा

मुंबई- चीन के शेयर बाजार में जबरदस्त बिकवाली का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। पिछले कई सालों से चलता आ रहा सिलसिला इस साल भी राहत के संकेत नहीं देरहा है। इस जबरदस्त और रिकॉर्ड लंबी बिकवाली में चाइनीज शेयर बाजार के निवेशकों का बुरी तरह से नुकसान हुआ है। 

पिछले चार साल से बदस्तूर जारी इस बिकवाली में चीन के शेयर बाजार की वैल्यू में 6 लाख करोड़ डॉलर (524 लाख करोड़ रुपये) से ज्यादा की गिरावट आई है। रिपोर्ट के अनुसार, पिछले कुछ साल से लगातार आ रही बिकवाली में चीन के शेयर बाजार में लिस्टेड सभी कंपनियों के सम्मिलित एमकैप में 6.3 करोड़ डॉलर की भारी गिरावट आई है। इसका मतलब हुआ कि चीन के शेयर बाजार में पैसे लगाने वाले निवेशकों की संपत्ति इस दौरान 6.3 ट्रिलियन डॉलर कम हो गई है। 

6.3 लाख करोड़ डॉलर कितनी बड़ी रकम है, इसका अंदाजा ऐसे लगा सकते हैं कि भारत की जीडीपी का साइज अभी 4 लाख करोड़ डॉलर से कम है। भारतीय शेयर बाजार की कुल वैल्यू अभी हाल ही में 4 ट्रिलियन डॉलर हो पाई है। देश के दोनों प्रमुख शेयर बाजारों बीएसई और एनएसई पर लिस्टेड सभी कंपनियों की सम्मिलित वैल्यू पिछले साल नवंबर-दिसंबर में 4-4 ट्रिलियन डॉलर हुई।  

चीन के शेयर बाजार को यह नुकसान अपने ऑल-टाइम हाई की तुलना में हुआ है। चीन का शेयर बाजार 2021 की शुरुआत में अपने पीक पर पहुंचा था। उसके बाद बाजार गर्त में गिरता जा रहा है। सालाना आधार पर देखें तो साल 2020 से लगातार हर साल चीनी बाजार को नुकसान हो रहा है। मतलब लगातार चार साल चीन के बाजार को नुकसान हो चुका है। इस साल स्थिति और खराब लग रही है क्योंकि अभी नए साल के महज 3 सप्ताह बीते हैं और चीनी बाजार को अब तक में ही 11-11 फीसदी का घाटा उठाना पड़ चुका है। 

चीन के बाजार में इस गिरावट का असर व्यापक हो रहा है। इससे सबसे ज्यादा प्रभावित चीन की एसेट मैनेजमेंट इंडस्ट्री हो रही है। सालों से बाजार को हो रहे नुकसान के चलते अब चीन में रिकॉर्ड संख्या में लोग म्यूचुअल फंड स्कीम से एक्जिट कर रहे हैं। वहीं मार्केट साइज के हिसाब से देखें तो 6 ट्रिलियन डॉलर से ज्यादा के इस नुकसान के बाद चीन ने एशिया के सबसे बड़े शेयर बाजार की हैसियत भी खो दी है। अब जापान एक बार फिर से एशिया का सबसे बड़ा शेयर बाजार बन चुका है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *