एमआरएफ शेयर 1.50 लाख रुपये का, जमकर खरीदिये एचडीएफसी बैंक शेयर  

मुंबई-शेयर बाजार में सूचीबद्ध सरकारी कंपनियों में एलआईसी सबसे मूल्यवान कंपनी बन गई है। इसने बुधवार को एसबीआई को पीछे छोड़ दिया। एसबीआई का पूंजीकरण 5,58,814 करोड़ रुपये जबकि एलआईसी का 5,60,964 करोड़ रुपये रहा। एलआईसी के शेयर ने एक महीने में 22 फीसदी और एसबीआई के शेयर ने केवल 8 फीसदी का फायदा दिया है। एसबीआई देश का सबसे बड़ा बैंक और एलआईसी देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी है।

एचडीएफसी बैंक के शेयरों में भारी गिरावट पर ब्रोकरेज हाउसों ने इसे खरीदने की सलाह दी है। सीएलएसए ने इसका भाव 1,900 रुपये से बढ़ाकर 2,025 रुपये और एक्सिस सिक्योरिटीज ने 1,800 से बढ़ाकर 1,975 रुपये कर दिया है। पिछले दो वर्षों से इस बैंक का शेयर सेंसेक्स और निफ्टी से कम रिटर्न दिया है। बुधवार को इसकी पूंजी एक लाख करोड़ रुपये से ज्यादा घटकर 11.55 लाख करोड़ रुपये रही है। तीसरी तिमाही में बैंक का जमा केवल 1.9 फीसदी बढ़ा और शुद्ध ब्याज मार्जिन करीब एक साल पहले की तिमाही के बराबर 3.4 फीसदी पर ही रही। 

एचडीएफसी बैंक में बुधवार को तीन साल की सबसे बड़ी गिरावट रही। इससे पहले यह कोरोना के समय 23 मार्च, 2020 को 12.7 फीसदी टूटा था। सेंसेक्स और निफ्टी में फीसदी के लिहाज से एक दिन में 18 महीने की सबसे बड़ी गिरावट रही है। इससे पहले 13 जून, 2022 को सेंसेक्स 2.68 फीसदी और निफ्टी50 2.64 फीसदी गिरा था। बैंक निफ्टी बुधवार को चार फीसदी से ज्यादा टूटा जो सात मार्च, 2022 के बाद एक दिन की सबसे बड़ी गिरावट रही है। 

भारतीय शेयर बाजार में सबसे महंगे शेयर एमआरएफ का भाव बुधवार को कारोबार के दौरान 1.50 लाख रुपये प्रति शेयर पहुंच गया। हालांकि, बाद में 1,509 रुपये की गिरावट के साथ यह 134,969 रुपये पर बंद हुआ। एमआरएफ के बाद पेज इंडस्ट्रीज (34,263 रुपये), हनीवेल ऑटोमेशन (37,219 रुपये और 3एम इंडिया (34,263 रुपये) सबसे महंगे शेयर हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *