एलआईसी ने अदाणी समूह की तीन कंपनियों के शेयर बेचे, ये रहा भाव 

मुंबई- देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी और संस्थागत निवेशक एलआईसी ने अडानी ग्रुप की तीन कंपनियों के शेयर बेचे हैं। दिसंबर तिमाही की शेयरहोल्डिंग पैटर्न के मुताबिक एलआईसी ने अडानी एनर्जी सॉल्यूशंस, अडानी एंटरप्राइजेज और अडानी पोर्ट्स में कुल 3,72,78466 शेयरों की बिक्री की है।

साथ ही उसने दिसंबर तिमाही के दौरान अडानी ग्रुप की सीमेंट कंपनी अंबूजा सीमेंट्स के 4500 शेयर खरीदे हैं। पिछले साल हिंडनबर्ग रिसर्च की रिपोर्ट के कारण अडानी ग्रुप के शेयरों में भारी गिरावट आई थी। इससे ग्रुप की कंपनियों में अडानी ग्रुप की हिस्सेदारी पर कांग्रेस ने सरकार पर निशाना साधा था। एलआईसी ने अडानी ग्रुप के शेयरों में हाल में आई तेजी का फायदा उठाते हुए प्रॉफिट बुकिंग की। 

सितंबर तिमाही के अंत में अडानी ग्रुप में एलआईसी की हिस्सेदारी की वैल्यू 45,025 करोड़ रुपये थी जो दिसंबर तिमाही के अंत में बढ़कर 58,374 करोड़ रुपये हो गई। दिसंबर तिमाही में अडानी एनर्जी सॉल्यूशंस में एलआईसी की हिस्सेदारी तीन फीसदी रह गई जो सितंबर तिमाही में 3.68% थी। दिसंबर तिमाही के दौरान इस शेयर में 42% तेजी रही। इसी तरह अडानी एंटरप्राइजेज में एलआईसी का हिस्सा 4.23% से घटकर 3.93% रह गया।  

दिसंबर तिमाही में यह शेयर 29% उछला। एलआईसी ने साथ ही अडानी ग्रुप की दुधारू गाय अडानी पोर्ट्स में भी अपनी हिस्सेदारी 9.07% से घटाकर 7.86% कर दी। दिसंबर तिमाही में इस कंपनी का शेयर 46% से अधिक उछला। अडानी ग्रुप की कंपनियों में इस शेयर में ही एलआईसी की सबसे ज्यादा हिस्सेदारी है। कंपनी में एलआईसी की हिस्सेदारी की कीमत करीब 20,000 करोड़ रुपये है। 

पिछली तिमाही में एसीसी, अडानी ग्रीन एनर्जी और अडानी टोटल गैस में एलआईसी की हिस्सेदारी में कोई बदलाव नहीं आया। इस तिमाही में अडानी ग्रीन के शेयरों में सबसे ज्यादा 73% तेजी आई। दिसंबर तिमाही में एलआईसी ने अंबूजा सीमेंट्स के 4,500 शेयर खरीदे लेकिन उसकी शेयरहोल्डिंग 6.29% बनी हुई है। हाल में सुप्रीम कोर्ट ने हिंडनबर्ग रिसर्च मामले की जांच सीबीआई, एसआईटी या किसी अन्य एजेंसी को ट्रांसफर नहीं करने का आदेश दिया था। इसके बाद अडानी ग्रुप के शेयरों में काफी तेजी आई थी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *