2027 में समृद्ध भारतीयों की संख्या होगी 10 करोड़ तक, गोल्डमैन का दावा 

मुंबई- अगले चार सालों में यानी 2027 तक ‘समृद्ध’ भारतीयों की संख्या 100 मिलियन यानी 10 करोड़ के पार हो जाएगी। गोल्डमैन सैक्स की रिपोर्ट में यह बात कही गई है। दुनिया में केवल 14 देश हैं, जिनकी आबादी 10 करोड़ से ज्यादा है। वहीं भारतीय, जो पहले से ही कंज्यूमर एंड वेल्थ क्रिएशन में बदलाव के लिए जिम्मेदार हैं, वे लग्जरी गुड्स से लेकर शेयर मार्केट, SUV से लेकर ज्वेलरी तक और अन्य कई चीजों पर और भी बड़ा प्रभाव डालेंगे। 

गोल्डमैन सैक्स की रिपोर्ट ‘द राइज ऑफ एफ्लुएंट इंडिया’ में बताया गया है कि भारतीयों की हर साल 10,000 डॉलर से ज्यादा की इनकम है और वर्तमान एक्सचेंज रेट्‌स के आधार पर यह 8.3 लाख रुपए है। रिपोर्ट में इसे समृद्धि के रूप में परिभाषित किया है। गोल्डमैन के एनालिस्टों का कहना है कि इस क्लास यानी वर्ग की संख्या वर्तमान में 6 करोड़ है, लेकिन 2027 तक 67% की भारी ग्रोथ के साथ यह 10 करोड़ हो जाएगी। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्तमान में लगभग 4% कामकाजी आबादी सालाना 8.28 लाख रुपए से ज्यादा कमाती है (यह आंकड़ा 2,100 डॉलर की प्रति व्यक्ति आय का लगभग पांच गुना यानी करीब 1,75,000 रुपए है)। इस वर्ग का तेजी से विस्तार हुआ है- 2019 और 2023 के बीच इसमें 12% की कंपाउंड एनुअल ग्रोथ हुई है, जबकि इसी अवधि में जनसंख्या में 1% की ग्रोथ हुई है।

लोगों की समृद्धि में तेज ग्रोथ का मतलब है कि पिछले तीन सालों के दौरान इक्विटी, गोल्ड, प्रॉपर्टी समेत वित्तीय और फिजिकल एसेट्स में भी अच्छी ग्रोथ हुई है। इक्विटी और गोल्ड में सबसे ज्यादा तेजी देखने को मिली है, जबकि प्रॉपर्टी की कीमतों में पिछले तीन-चार सालों में हाईयर रेट ऑफ एप्रिसिएशन देखने को मिला है। 

गोल्डमैन के एनालिस्टों का कहना है कि 2023 में डीमैट अकाउंट्स की संख्या 2.8 गुना बढ़कर 114 मिलियन यानी 11.4 करोड़ हो गई है। वहीं स्टॉक ओनरशिप (BSE 200 स्टॉक) और म्यूचुअल फंड निवेश में भी अच्छी ग्रोथ हुई है। 2019 और 2023 के बीच भारतीयों के पास मौजूद सोने की वैल्यू 63% बढ़कर 1.8 ट्रिलियन डॉलर यानी 149.17 लाख करोड़ रुपए हो गई है। 

रिपोर्ट के मुताबिक, FMCG, फुटवियर, फैशन, पैसेंजर व्हीकल्स और टू व्हीलर्स समेत सभी इंडस्ट्रीज में प्रीमियम प्रोडक्ट्स की डिमांड में तेज ग्रोथ देखने को मिली है। वहीं टॉप इनकम कंजप्शन पर फोकस करने वाली कंपनियों ने भी अच्छा प्रदर्शन किया है। इसके अलावा ज्वेलरी, ट्रैवल, प्रीमियम रिटेल और हेल्थकेयर सेक्टरों में भी अच्छी ग्रोथ देखी गई है। 

कई कंपनियों के प्रोडक्ट पोर्टफोलियो में भी काफी चेंज हुआ है। यही वजह है कि हिंदुस्तान यूनिलीवर की तुलना में नेस्ले तेजी से बढ़ी है। वहीं HUL का प्रीमियम पोर्टफोलियो उसके टोटल रेवेन्यू की तुलना में तेजी से बढ़ा है। 

समृद्ध लोगों द्वारा कंजम्पशन के लिए क्रेडिट कार्ड से खर्च भी बढ़ा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2019 के बाद से क्रेडिट कार्ड ओनरशिप में 80% की ग्रोथ हुई है और इसी अवधि में क्रेडिट कार्ड से खर्च में 250% की ग्रोथ देखने को मिली है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *