एचडीएफसी बैंक का लोन अब और महंगा, 0.10 पर्सेंट बढ़ा दिया ब्याज 

मुंबई-नए साल पर एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) ने ग्राहकों को झटका दिया है। बैंक ने लोन पर मार्जिनल कॉस्‍ट फंड्स बेस्‍ड लेंडिंग रेट (MCLR) में बढ़ोतरी की है। बैंक ने एमसीएलआर में 0.10 फीसदी यानी 10 बेसिस पॉइंट्स तक का इजाफा किया है। लोन की नई ब्‍याज दरें 8 जनवरी 2024 से प्रभावी हो गई हैं।  

बैंक का यह कदम उसके होम, कार और पर्सनल लोन को महंगा कर देगा। इससे लोन की रीसेट डेट आने पर मंथली ईएमआई इस बढ़ोतरी के अनुसार एडजस्‍ट हो जाएगी। एमसीएलआर से बैंक के कई तरह के लोन लिंक हैं। इनमें होम, कार और पर्सनल लोन वगैरह शामिल हैं। नए साल में ग्राहकों की जेब पर इसका असर पड़ने वाला है। एचडीएफसी के होम और कार लोन ग्राहकों की ईएमआई बढ़ सकती है। 

अब एचडीएफसी बैंक के ओवरनाइट एमसीएलआर को 10 बीपीएस बढ़ाकर 8.70 फीसदी से 8.80 प्रतिशत कर दिया है। एक महीने में एमसीएलआर को 5 बीपीएस बढ़ाकर 8.75 फीसदी से 8.80 कर दिया गया है। वहीं तीन महीने की एमसीएलआर को भी बढ़ा दिया गया है। इसे 9 प्रतिशत कर दिया गया है। छह महीने की एमसीएलआर 9.20 फीसदी कर दिया गया है। एक साल के लिए लोन बेस्ड एमसीएलआर को 9.20 फीसदी से बढ़ाकर 9.25 फीसदी कर दिया गया है।  

एचडीएफसी बैंक से पहले कई और बैंकों ने भी अपने लोन महंगे किए हैं। रिटेल लोन की दर में इजाफा करने वाले बैंकों में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और बैंक ऑफ बड़ौदा शामिल हैं। आमतौर पर लोन की दरों में बढ़ोतरी रेपो रेट में इजाफे के बाद देखने को मिलती है। लेकिन इस बार बैंकों ने रेपो रेट के स्थिर रहने के बावजूद यह इजाफा किया है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने लंबे समय से रेपो रेट को 6.50 फीसदी की दर पर बरकरार रखा है। 

दरअसल एमसीएलआर की दर वह होती है, जिससे कम पर बैंक लोन नहीं जारी कर सकता है। बैंकों को अपना एमसीएलआर जारी करना अनिवार्य होता है। एमसीएलआर बढ़ने का मतलब है कि मार्जिनल कॉस्ट से जुड़े लोन महंगे हो जाएंगे। इससे लोगों को ज्यादा ईएमआई देनी पड़ती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *