सोनी व जी एंटरटेनमेंट के विलय की योजना हो सकती है कैंसल, ये है कारण 

मुंबई- सोनी अब जी एंटरटेनमेंट के साथ अपनी इंडियन यूनिट के विलय समझौते को कैंसिल करने की योजना बना रही है। सोनी ग्रुप कॉर्प और जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड के पास इस मर्जर को बंद करने के लिए एक महीने का ग्रेस पीरियड है। 

2021 में जी ने जापान के सोनी कॉर्प की सहायक कंपनी सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया के साथ विलय की घोषणा की थी, लेकिन क्रेडिटर्स की आपत्तियों सहित अन्य कारणों से ये विलय पूरा नहीं पाया है। इस मर्जर से करीब 83 हजार करोड़ रुपए की कंपनी बनती। 24% से ज्यादा व्यूअरशिप के साथ जी+सोनी देश का सबसे बड़ा एंटरटेनमेंट नेटवर्क होता। 

2021 में जब एग्रीमेंट साइन किया गया था, तब यह तय हुआ था कि पुनीत गोयनका मर्जर के बाद बनी इस नई कंपनी को लीड करेंगे। लेकिन सोनी अब नियामक जांच के कारण नहीं चाहता कि वो कंपनी के CEO बने। पुनीत गोयनका जी ग्रुप के फाउंड सुभाष च्रंदा के बेटे और जी के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर है। 

सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया लंबे समय से इंडियन टेलीविजन इंडस्ट्री में हैं। कंपनी ने भारत में 1995 में अपना पहला टीवी चैनल सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन लॉन्च किया था। कंपनी अपने बिजनेस को बहुत ज्यादा एक्सपेंड नहीं कर पा रही थी। 

वहीं ZEEL ने अपना पहला चैनल जी टीवी 2 अक्टूबर 1992 को लॉन्च किया था। ZEEL पर लंबे समय से एस्सेल ग्रुप का कंट्रोल था, लेकिन एस्सेल पर अपने खुद के 2.4 अरब डॉलर (17,000 करोड़ रुपए) के कर्ज का बोझ था। 

अंतिम दौर में नेतृत्व की लड़ाई के कारण डील कैंसिल होने से जी को डिफॉल्ट का सामना करना पड़ सकता है। वहीं इस डील के कैंसिल होने का फायदा मुकेश अंबानी के रिलायंस ग्रुप को मिल सकता है। रिलायंस ग्रुप की डिज्नी की इंडियन यूनिट के साथ मर्जर पर बातचीत चल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *