चीन व हांगकांग से आनेवाले सर्किट बोर्ड पर लग सकता है आयात शुल्क 

मुंबई- घरेलू प्रिंटेड सर्किट बोर्ड्स यानि पीसीबी बनाने वाली कंपनियों को सरकार की तरफ से बड़ी राहत मिल सकती है। व्यापार उपचार महानिदेशालय (डीजीटीआर) ने घरेलू उद्योग के हितों की रक्षा के लिए चीन, हांगकांग से आयातित मुद्रित सर्किट बोर्ड के आयात पर पांच साल के लिए डंपिंग रोधी शुल्क लगाने की सिफारिश की है। 

अधिसूचना के मुताबिक, इन दोनों देशों से इन बोर्डों के लागत से कम कीमत पर आयात की जांच के बाद शुल्क की सिफारिश की गई है। शुल्क की लागत बीमा माल ढुलाई मूल्य के 8.23 फीसदी से 75.72 फीसदी की सीमा के बीच है। शुल्क लगाने का निर्णय वित्त मंत्रालय को तीन माह में करना होगा। पीसीबी (प्रिंटेड सर्किट बोर्ड) को ट्रांजिस्टर, रेसिस्टर और कैपेसिटर जैसे इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों से बनाया जाता है। 

पीसीबी का उपयोग कार, टेलीफोन, खिलौने, टेलीविजन, कंप्यूटर और अन्य सामग्रियों में किया जाता है। डीजीटीआर ने अधिसूचना में कहा, शुल्क लगाने से उत्पाद की उपलब्धता प्रभावित नहीं होगी। भारतीय प्रिंटेड सर्किट एसोसिएशन ने चीन और हांगकांग से आयात पर एंटी-डंपिंग शुल्क लगाने का आवेदन किया था। निदेशालय ने पाया कि सस्ते दाम पर आयात के कारण घरेलू उद्योग को नुकसान हुआ है। 

विदेशी बाजारों में सामान को डंप करना रणनीति का हिस्सा होता है। इसमें जब दूसरी घरेलू कंपनियां उत्पादन बंद कर बाहर हो जाती हैं तब विदेशी कंपनियां उत्पादों के दामों को तेजी से बढ़ाकर मुनाफा कमाती हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *