इथेनॉल मिश्रण से भारत ने विदेशी विनिमय के रूप में बचाए 24,300 करोड़ 

मुंबई- पूरी ने कहा पेट्रोल में इथेनॉल मिश्रण से भारत ने 2022-23 में विदेशी विनिमय के रूप में 24,300 करोड़ रुपये बचाए हैं। सरकारी पेट्रोलियम कंपनियों ने 509 करोड़ लीटर पेट्रोल बचाया है। इसके अलावा किसानों को लगभग 19,300 करोड़ रुपये का शीघ्र भुगतान किया गया है।  

भारत ने अप्रैल 2023 में चरणबद्ध तरीके से 20 फीसदी मिश्रित ईंधन पहले ही लॉन्च कर दिया है। सरकार 2024-25 तक 20 फीसदी और 2029-30 तक 30 फीसदी इथेनॉल-मिश्रित पेट्रोल का लक्ष्य रखा है। पूरी ने कहा, रूस से तेल खरीदने में भुगतान की कोई समस्या नहीं है। खरीद में हालिया गिरावट रूस की ओर से दी जाने वाली छूट का नतीजा है।  

रूस-यूक्रेन युद्ध शुरू होने से पहले फरवरी 2022 में भारत के कच्चे तेल आयात में रूसी तेल की हिस्सेदारी सिर्फ 0.2 फीसदी थी जो बाद में 40 फीसदी तक बढ़ गया था। अब अगर वे घटकर 33 फीसदी या 28-29 फीसदी पर आ गए हैं तो यह भुगतान की समस्या का सवाल नहीं है। हम कुल 50 लाख बैरल प्रतिदिन खपत में रूस से 15 लाख बैरल तेल खरीद रहे हैं। अगर वे छूट नहीं देंगे, तो हम इसे क्यों खरीदेंगे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *