इस इंसान ने अमेरिका की नौकरी छोड़ भारत में खड़ी की 2400 करोड़ की कंपनी 

मुंबई- अमेरिका में अपनी मोटी सैलरी वाली नौकरी छोड़कर भारत में होम डिलीवरी का काम शुरू किया था, आज वह 2,400 करोड़ की कंपनी के मालिक हैं। हम बात कर रहे हैं ऑनलाइन कंपनी ग्रोफर्स डॉट कॉम (Grofers.com) के संस्थापक अलबिंदर ढींढसा (Albinder Dhindsa) की।  

यह कंपनी लोगों को बेकरी सामान, ग्रोसरी का सामान, फ्रुट और सब्जियां, मीट, बेबी केयर प्रोडक्ट आदि घर बैठे मुहैया करती है। अलबिंदर ने घर-घर सामान पहुंचाने का ऑनलाइन बिज़नेस शुरू करके सफलता की एक नई कहानी लिख दी। 

पंजाब के पटियाला में पले-बढ़े अलबिंदर ने आईआईटी दिल्ली (IIT Delhi) से इंजीनियरिंग की डिग्री ली है। इंजीनियरिंग करने के बाद अलबिंदर ने अपने करियर की शुरुआत अमेरिका की एक कंपनी से की थी। 2005 में उन्होंने अमेरिका के यूआरएस कॉरपोरेशन में ट्रांसपोर्टेशन एनालिस्ट के तौर पर नौकरी की। कुछ समय बाद अलबिंदर ने नौकरी छोड़ एमबीए किया और भारत लौट आए।

भारत आकर अलबिंदर ने जौमेटो डॉट कॉम (Zomato.com) के साथ काम किया, लेकिन वह खुद का स्टार्टअप शुरू करना चाहते। अलबिंदर ने अपने इसी सपने को पूरा करने के लिए बिजनेस की जानकारी जुटाना शुरू किया। अलबिंदर ने देखा कि भारत में डिलिवरी इंडस्ट्री में बड़ा स्कोप है। इसके बाद इसी कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने डिलीवरी का काम करने की प्लानिंग की।  

इसी दौरान उनकी मुलाकात उनके एक दोस्त सौरभ कुमार से हो गई। उन्होंने अपने दोस्त को यह बात बताई। दोनों दोस्तों ने इसे विचार को अवसर में बदलने का निर्णय किया। अलबिंदर ने अपने स्टार्टअप की नींव रखी और ऑनलाइन कंपनी ‘वन नंबर’ की शुरुआत की। हालांकि बाद में बदलाव के चलते उन्होंने वन नंबर को ग्रोफर्स (Grofers) के नाम से रीब्रांड भी किया।  

ग्रोफर्स (Grofers) एक ऐसी कंपनी बनकर सामने आई जिसे वेबसाइट और मोबाइल एप के जरिए ग्राहकों को ऑनलाइन आर्डर करने की सुविधा मिलती है। यह कुछ ही घंटो में आपको सामान की डिलीवरी कर देती है। लोगों को अलबिंदर का यह आइडिया खूब पंसद आने लगा। देखते ही देखते बेंगलुरु, चेन्नई, दिल्ली, कोलकाता समेत सभी बड़े शहरों में यह रोजाना 20 हज़ार से भी ज्यादा कस्टमर को अपनी सेवा प्रदान करने वाली स्टार्टअप बन गई। ऑनलाइन ग्रॉसरी स्टार्टअप ग्रोफर्स (Grofers) का बाद में नाम बदलकर ब्लिंकिट (Blinkit) रख दिया गया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *