एसएमई आईपीओ में सेबी की कार्रवाई, अहमदाबाद के मर्चेंट बैंकरों पर छापा 

मुंबई। एसएमई आईपीओ में चल रहे खेल पर सेबी ने कड़ी कार्रवाई की है। इसने अहमदाबाद के कई मर्चेंट बैंकरों के कार्यालयों और आवासों पर छआपा मारा है। पिछले दो वर्षों से एसएमई आईपीओ में बेतहाशा सब्सक्रिप्शन और उसके बाद भारी मुनाफे पर सेबी की नजर पड़ी थी। इसी वजह से ऐसा माना जा रहा था कि कुछ मर्चेंट बैंकर, ब्रोकर और ऑपरेटर मिल कर खेल कर रहे हैं। 

दरअसल कई एसएमई आईपीओ लिस्ट होने के बाद ऑपरेटरों के जरिये खेले जा रहे थे। जिन मर्चेंट बैंकरों पर छापा पड़ा है वे मर्चेंट बैंकर कम ब्रोकर कम ऑपरेटर के रूप में काम कर रहे थे। बाजार के सूत्रों के मुताबिक, मुंबई स्थित ब्रोकर्स के देशभर में कार्यालयों और अहमदाबाद के एसएमई इश्यू राइट करने वाले मर्चेंट बैंकर के ऑफिस पर सेबी ने छापा मारा है। यह मर्चेंट बैंकर देश में सबसे ज्यादा एसएमई आईपीओ को लाया है।

सूत्रों के मुताबिक, इस मर्चेंट बैंकर ने एसएमई आईपीओ के जरिये प्रमोटरों को 700 करोड़ रुपये से ज्यादा का फंड जुटाने में मदद किया है। रिटेल निवेशकों में एसएमआई का आकर्षण तेजी से बढ़ रहा है। इससे मर्चेंट बैंकर और अन्य कंपनियों के प्रमोटरों ने लिस्टिंग के लिए तैयार किए रिटेल निवेशकों को फंसाने का काम कर रहे थे। बीएसई एसएमई सेगमेंट का मार्केट कैप फिलहाल एक लाख करोड़ रुपये को पार कर गया है। जबकि इस साल 15 दिसंबर तक 4,300 करोड़ रुपये की रकम आईपीओ से जुटाई गई है।   

इस समय स्टॉक टिप्स देने के लिए ऑपरेटर वाट्सऐप ग्रुप और टेलिग्राम चैनलों का भरपूर फायदा उठा रहे हैं। ऑपरेटर निवेशकों को ललचाने के लिए फेसबुक, यूट्यूब और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया का भी सहारा लेते हैं। ये ऑपरेटर पहले तो ग्रुप में छोटी कंपनियों के शेयरों को खरीदने को कहते हैं और जब शेयर का भाव ऊपर हो जाता है तो अपना माल बेचकर निकल जाते हैं।   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *