शीर्ष देशों में महंगाई में भारत तीसरे स्थान पर, रूस और दक्षिण अफ्रीका आगे 

मुंबई- पूरी दुनिया में ब्याज दरों और महंगाई का उच्च स्तर अगले कुछ महीने तक ऊपर बने रहने की उम्मीद है। इस बीच शीर्ष देशों में भारत महंगाई के मामले में तीसरे स्थान पर है। नवंबर में महंगाई दर बढ़ने के बाद दिसंबर में भी भारत में मुद्रास्फीति ऊंची बने रहने की उम्मीद है, क्योंकि खाद्य पदार्थों की कीमतें अभी भी उच्च स्तर पर बनी हुई हैं।  

बैंक ऑफ बड़ौदा की एक रिपोर्ट के अनुसार, महंगाई की ऊंची दरों से सबसे अधिक प्रभावित रूस और दक्षिण अफ्रीका हैं। रूस में महंगाई दर 7.5 फीसदी जबकि दक्षिण अफ्रीका में यह 5.9 फीसदी है। तीसरे स्थान पर भारत में नवंबर में मुद्रास्फीति की दर 5.6 फीसदी रही है। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया में यह 5.4 फीसदी, सिंगापुर में 4.7 फीसदी और ब्राजील में 4.7 फीसदी रही है।  

रिपोर्ट के अनुसार, पिछले कुछ महीनों से भारत में घट रही महंगाई को बढ़ाने में खाद्य पदार्थ जिम्मेदार हैं। आगे भी इनमें तेजी बने रहने की उम्मीद है। यह अलग बात है कि दो फीसदी घट-बढ़ के साथ महंगाई की दर फिलहाल आरबीआई के बैंड से नीचे है, लेकिन उसके चार प्रतिशत के लक्ष्य से यह अभी भी 1.5 प्रतिशत अधिक है। आरबीआई का बैंड 4 प्रतिशत के साथ दो प्रतिशत उतार-चढ़ाव यानी 2 से 6 फीसदी के बीच रहने का है।  

आंकड़ों के मुताबिक, कई देशों के बीच तनाव से पूरी दुनिया में ब्रेंट क्रूड, प्राकृतिक गैस और कोयला की कीमतों में भारी गिरावट आई है। नवंबर, 2022 की तुलना में नवंबर, 2023 में ब्रेंट क्रूड 8.7 प्रतिशत, कोयला 62.9 प्रतिशत और प्राकृतिक गैस इंडेक्स 55.4 फीसदी सस्ता हुआ है। मक्का और गेहूं की कीमतें इसी दौरान 34 प्रतिशत और 32.9 प्रतिशत घटीं, लेकिन चावल के दाम करीब 36 प्रतिशत तक बढ़ गए।  

जिन देशों में भारत से कम महंगाई है, उनमें यूके में 4.6 प्रतिशत, मैक्सिको में 4.3 प्रतिशत, जापान में 3.3 प्रतिशत, दक्षिण कोरिया में 3.3 प्रतिशत, कनाडा में 3.1 प्रतिशत, अमेरिका में 3.1 प्रतिशत, यूरो में 2.4 प्रतिशत और सऊदी अरब में 1.6 प्रतिशत है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *