मारुति 800 को अब पूरे हुए 40 साल, जानिए किसने खरीदी थी पहली कार  

मुंबई- देश की चहेती कार मारुति 800 को 14 दिसंबर, 1983 में लॉन्च किया गया था। तब इसकी कीमत सिर्फ 47 हजार 500 रुपये थी। सस्ती होने के कारण खासकर मिडिल क्लास ने इसे हाथोंहाथ लिया था। बुकिंग शुरू होने के बाद सिर्फ दो महीनों में ही 1.35 लाख कारें बुक हो चुकी थीं। इस कारण लोगों को कार पाने के लिए लंबी वेटिंग लिस्ट में रहना पड़ा।  

मारुति 800 की पहली चाबी पाने का सौभाग्य मिला हरपाल सिंह को। यही वजह है कि जब भी मारुति 800 की बात होती है तो हरपाल सिंह का जिक्र जरूर होता है। पहली मारुति 800 कार के मालिक बने थे हरपाल सिंह। वह इंडियन एयरलाइंस के कर्मचारी थे और 14 दिसंबर, 1983 को मारुति 800 के पहले ग्राहक बने थे। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से कार की चाबी लेते हुए उनकी तस्वीर भारतीय ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री के इतिहास का हिस्सा बन गई। मारुति 800 के साथ-साथ हरपाल सिंह भी उस दिन के बाद सिलेब्रिटी बन गए।

हरपाल सिंह ने जिस मारुति 800 कार को खरीदा था, उसकी नंबर प्लेट की भी खूब चर्चा रही। उसका रजिस्ट्रेशन नंबर था DIA 6479। मारुति 800 कार को खरीदने के लिए हरपाल सिंह ने अपनी फिएट कार को बेच दिया था। मारुति 800 को खरीदने के बाद वह पूरी जिंदगी उसी कार को चलाते रहे। वह मानते थे कि यह कार उन्हें भगवान की कृपा से मिली है। इसलिए उन्होंने उसे कभी नहीं बेचा। हरपाल सिंह का 2010 में निधन हो गया। उनके बाद वह कार सड़क पर नहीं चली है। 

हरपाल सिंह की मौत के बाद उनकी कार ग्रीन पार्क में उनके घर के पास खड़ी जंक खा रही थी। सड़क किनारे खड़ी इस कार की तस्वीरें इंटरनेट पर खूब वायरल हुई थीं। उसके बाद मारुति के सर्विस सेंटर में इसे दुरुस्त किया गया। कार को बाहर और अंदर से रीस्टोर किया गया। कई लोगों ने इस कार को खरीदने की इच्छा जताई लेकिन हरपाल सिंह के परिवार ने यह कार नहीं बेची। 

मारुति का सफर 1980 में शुरू हुआ था। मारुति सुजुकी भारत सरकार और जापान की सुजुकी मोटर कंपनी के बीच एक जॉइंट वेंचर थी। कंपनी ने 9 अप्रैल 1983 को कार की बुकिंग शुरू। सस्ती कीमत के अलावा इसे चलाना भी आसान था और इसका माइलेज भी उस वक्त की गाड़ियों की तुलना में अच्छा था। 

मारुति 800 करीब 31 साल तक भारतीय बाजार पर छाई रही। 2014 में कंपनी ने इसका उत्पादन बंद कर दिया। 31 सालों में कंपनी ने करीब 27 लाख मारुति 800 कारें बेचीं। उसकी जगह कंपनी ने बाजार में ऑल्टो 800 उतारी, जिसे भी लोगों का खूब प्यार मिला। आज मारुति सुजुकी के पोर्टफोलियो में कई कारें हैं लेकिन मारुति 800 ने ही उसे जन-जन तक पहुंचाया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *