एलआईसी के शेयर पिटे, पर दूसरों के शेयरों से 50 दिन में कमाए 80,000 करोड़  

मुंबई-देश की सबसे बड़ी घरेलू संस्थागत निवेशक एलआईसी (LIC) का अपना शेयर भले ही अपने इश्यू प्राइस तक नहीं पहुंच पाया है लेकिन कंपनी ने पिछले 50 कारोबारी दिनों में 80,000 करोड़ रुपये की कमाई की है। एलआईसी के पोर्टफोलियो में शामिल 110 शेयरों ने इस दौरान डबल डिजिट रिटर्न दिया है। 

इनमें माइक्रोकैप स्टॉक गोकाक टेक्सटाइल्स ने सबसे अधिक 204% रिटर्न दिया है। तीसरी तिमाही में एलआईसी के लिए टॉप परफॉर्म करने वाले शेयरों में इंडस्ट्रियल इनवेस्टमेंट ट्रस्ट, ओरिएंट ग्रीन पावर कंपनी, अडानी टोटल गैस, बीएसई, स्पेंसर्स रिटेल, द न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी, स्वान एनर्जी और पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन शामिल है। 

एलआईसी के पोर्टफोलियो में सैकड़ों शेयर शामिल हैं लेकिन केवल 260 स्टॉक की ही जानकारी उपलब्ध है। इन कंपनियों में एलआईसी की कम से कम एक फीसदी हिस्सेदारी है। सार्वजनिक रूप से उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक एलआईसी का इक्विटी पोर्टफोलियो 80,300 करोड़ रुपये की तेजी के साथ 11.7 लाख करोड़ रुपये पहुंच चुका है। सितंबर तिमाही के अंत में एलआईसी का इक्विटी पोर्टफोलियो करीब 10.9 लाख करोड़ रुपये का था। इस तिमाही में निफ्टी में अब तक 6.5 परसेंट तेजी आई है जबकि एलआईसी का पोर्टफोलियो 7.36 परसेंट बढ़ा है।

मार्केट वैल्यू के हिसाब से देखें तो एलआईसी के पोर्टफोलियो में रिलायंस इंडस्ट्रीज सबसे ऊपर है। एलआईसी के पास कंपनी की 6.27 फीसदी हिस्सेदारी है जिसकी कीमत एक लाख करोड़ रुपये से अधिक है। इसके बाद आईटीसी (86,000 करोड़), टीसीएस (64,000 करोड़), एचडीएफसी बैंक (54,000 करोड़), एलएंडटी (51,000 करोड़), इन्फोसिस (51,000 करोड़), एसबीआई (48,000 करोड़), आईसीआईसी बैंक (42,000 करोड़), आईडीबीआई बैंक (35,000 करोड़) और एक्सिस बैंक (28,000 करोड़) का नंबर है। 

पिछले एक महीने में एलआईसी का शेयर भी करीब 35 फीसदी बढ़ा है। हालांकि यह अब भी अपने इश्यू प्राइस 949 रुपये से काफी नीचे ट्रेड कर रहा है। कंपनी पिछले साल 21,000 करोड़ रुपये का इश्यू लाई थी जो भारत का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ है। जियोजित फाइनेंशियल ने पिछले महीने इसका टारगेट प्राइस बढ़ाकर 823 रुपये कर दिया था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *