वोडाफोन व यस बैंक सहित 10 शेयरों ने 5 साल में निवेशकों को किया कंगाल 

मुंबई-शेयर बाजार ने पिछले पांच साल में काफी तेजी आई है। लेकिन इस दौरान कई शेयरों ने निवेशकों का काफी नुकसान किया है। इनमें वोडाफोन आइडिया और यस बैंक जैसे शेयर भी शामिल हैं जो रिटेल निवेशकों के बीच काफी लोकप्रिय हैं। लेकिन 2018 से 2023 के बीच दस शेयरों ने निवेशकों को 564,300 करोड़ रुपये का झटका दिया है। इसमें पहले नंबर पर टेलिकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया है। भारी कर्ज में डूबी इस कंपनी ने पिछले पांच साल में निवेशकों को 1.39 लाख करोड़ रुपये का झटका दिया है। मोतीलाल ओसवाल की वेल्थ क्रिएशन स्टडी में यह बात सामने आई है।

वोडाफोन आइडिया का शेयर पिछले पांच साल में 34% सीएजीआर की दर से गिरा है। इस लिस्ट में दूसरा नाम यस बैंक का है जिसने 45% की सालाना दर से निवेशकों को झटका दिया है। रुपये के संदर्भ में देखें तो इस बैंक ने इस दौरान 58,900 करोड़ रुपये गंवाए हैं। अन्य टॉप लूजर्स में आईओसीएल, इंडियाबुल्स हाउसिंग, इंडसइंड बैंक, बंधन बैंक, कोल इंडिया, न्यू इंडिया एश्योरेंस, जनरल इंश्योरेंस और इंडस टावर्स शामिल हैं।  

पिछले पांच साल में निवेशकों को कुल 17 लाख करोड़ रुपये का झटका लगा जो टॉप 100 कंपनियों द्वारा बनाई गई वेल्थ का करीब 25 परसेंट है। पिछले पांच साल में सबसे ज्यादा पैसा गंवाने वाली टॉप 10 कंपनियों में से छह फाइनेंशियल सेक्टर की हैं। दिलचस्प बात है कि यह सेक्टर सबसे ज्यादा पैसा गंवाने के साथ-साथ तीसरा सबसे बड़ा वेल्थ क्रिएटर भी है।  

दूसरी ओर पिछले पांच साल में 10 सबसे बड़े वेल्थ क्रिएटर स्टॉक्स ने निवेशकों की झोली में 37.8 लाख करोड़ रुपये डाले। इनमें रिलायंस इंडस्ट्रीज, टीसीएस, आईसीआईसीआई बैंक, इन्फोसिस और भारती एयरटेल शामिल हैं। लो-प्रोफाइल कंपनी लॉयड्स मेटल्स ने साल 2018 से साल 2023 के बीच 79% सीएजीआर की रफ्तार से फायदा दिया है। 

मोतीलाल की रिपोर्ट के मुताबिक 2018 में टॉप 10 कंपनियों में 10 लाख रुपये का निवेश आज एक करोड़ रुपये होता। इस दौरान यह वेल्थ 59 परसेंट सीएजीआर की स्पीड से बढ़ी है जबकि सेंसेक्स की रफ्तार 12 परसेंट रही। कैपरी ग्लोबल ने पिछले साल में वेल्थ क्रिएशन के मामले में सबसे ज्यादा कंसिसटेंट रहा। इस दौरान इस शेयर ने ज्यादा 50% सीएजीआर की रफ्तार के साथ मुनाफा दिया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *